पवित्र नगरी को बचाएं मांसाहार से, खाद्य सुरक्षा प्रशासन उदासिन – चंदवानी

8:09 pm or September 11, 2021
पवित्र नगरी को बचाएं मांसाहार से, खाद्य सुरक्षा प्रशासन उदासिन - चंदवानी

महावीर अग्रवाल

मंदसौर ११ सितम्बर ;अभी तक;  मंदसौर के हर चैराहे पर इन दिनों मांसाहार का केंद्र बना हुआ है। जहां देखों उधर सिर्फ मांसाहार की दुकानें नजर आने लगी है।  यह बात भाजपा नेता एवं पूर्व भाजपा मंडल अध्यक्ष नरेश चंदवानी ने कहते हुए बताया कि नगर के महाराणा प्रताप चैराहा से प्रारंभ करें और शहर के मुख्य मार्गो से होते हुए अगर भ्रमण करे तो शर्म और लज्जा आ जाती है।  जिस नगरी को पवित्र नगरी की उपाधि दी गई उस नगरी के मुख्य मार्ग पर मांसाहार अंडे खुलेआम बिक रहे है और सबसे आश्चर्य की बात तो यह है कि इन बेचने वालों में आधे से अधिक के पास भी खाद्य लाइसेंस नहीं है।

श्री चंदवानी ने बताया कि खाद्य सुरक्षा विभाग भी उंट के मुंह में जीरा के समान कार्यवाही करता है जो नाकाफी है। आज इतनी बिमारियां पनप रही है ऐसे में बिना प्रमाणिक मांसाहार बिक रहा है जो नगर वासियों के लियें खतरे की घंटी है। भगवान पशुपतिनाथ मंदिर पर जाने के रास्ते से निकले तो पूरा मार्ग मांसाहार की दुकानों से पटा पड़ा है जिसकी शुरुआत महाराणा प्रताप चैराहे से बस स्टैंड, सम्राट मार्केट मच्छी बाजार, सीतामऊ फाटक मतलब हर क्षेत्र से गुजरने से पहले आपको मांसाहार की दुकान दिखेगी। श्री चंदवानी ने कहा कि मेरा यह कहना नहीं है कि मांसाहार की दुकानें नहीं होना चाहिए लेकिन इनके लिए शहर में एक या दो स्थान नियत करना चाहिए एवं समय – समय पर खाद्य प्रशासन द्वारा जांच की जाना चाहिए ताकि आमजन के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ नहीं हो सकें। और मेेरा सभी मांसाहार दुकान का व्यवसाय करने वालों से भी निवेदन है कि सभी लोग खाद्य लायसेंस लेकर की व्यापार करें।