पहला सुख निरोगी काया ” – डॉ. महेंद्र सिंह रघुवंशी, अतिरिक्त संचालक भोपाल नर्मदापुरम संभाग 

6:36 pm or June 8, 2021
पहला सुख निरोगी काया ” - डॉ. महेंद्र सिंह रघुवंशी, अतिरिक्त संचालक भोपाल नर्मदापुरम संभाग 
 सौरभ तिवारी
होशंगाबाद ८ जून ;अभी तक;  शासकीय गृहविज्ञान स्नातकोत्तर अग्रणी महाविद्यालय होशंगाबाद में प्राचार्य डॉ. कामिनी जैन के मार्गदर्शन में क्लीनिकल न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स विभाग द्वारा ” एक्टिव न्यूट्रिशन इन इम्युनिटी बूस्टर सप्लीमेंट ” विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया| ।
वेबिनार में उच्च शिक्षा विभाग नर्मदापुरम संभाग के अतिरिक्त संचालक डॉ. महेंद्र सिंह रघुवंशी ने कहा की मार्च २०१९ से कोरोना महामारी की वजह से हमने आपस में हाथ मिलाना एवं गले मिलना बंद कर दिया और हाथ जोड़कर अभिवादन करना शुरू किया। अभिवादन की इस भारतीय परम्परा का प्रसार समूचे विश्व में हुआ। कोरोना काल में हमने ऑक्सीजन का महत्व जाना है इसलिए अधिक से अधिक वृक्षारोपण करें एवं लगाए गए वृक्षों की जिम्मेदारी स्वयं लेने और इम्युनिटी बढ़ाने के लिए संतुलित आहार का आग्रह किया।
प्राचार्य डॉक्टर श्रीमती कामिनी जैन ने बताया कि कोविड-19 में व्हाट्सएप पर सूचनाओं की बाढ़ सी आ गई जिससे हम सब भ्रमित हो रहे हैं कि कोरोनावायरस के पहले व बाद में अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत रखने के लिए क्या खाएं एवं क्या ना खाएं? इस समस्या को ध्यान में रखते हुए सीएनडी विभाग द्वारा वेबीनार के लिए इस विषय का चयन किया गया है। विभाग द्वारा एक रेसिपी कांटेस्ट का आयोजन भी किया जा रहा है, जिसमें इम्यूनिटी बूस्टर व्यंजनो को सम्मिलित किया गया है| विभाग द्वारा इनका पोषणीय मूल्य निकाला जाएगा और यह प्रयास किया जाएगा कि एक सर्विंग में कितने कितने पौष्टिक तत्व प्राप्त हो रहे हैं इसका पता चले , साथ ही कम लागत के इम्युनिटी बूस्टर व्यंजन को किस तरह तैयार किया जा सके इसका ज्ञान प्राप्त हो।
क्लिनिकल न्यूट्रिशन एंड डाइटेटिक्स विभाग की विभागाध्यक्ष श्रीमती डॉ रश्मि श्रीवास्तव ने विषय प्रवर्तन करते हुए बताया कि जिस प्रकार लॉकडाउन से प्रकृति अनलॉक हुई और प्रकृति को बूस्टर मिला उसी तरह कोरोनावायरस के समय मनुष्य के जीवन में पोषण एक बूस्टर की तरह कार्य कर रहा है, और हमारे आहार में कई ऐसे सक्रिय पोषक तत्व है जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में बूस्टर की तरह कार्य करते हैं जिससे मनुष्य में लंबे समय तक उसकी प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने में मदद मिलती हैं और जब तक सम्मिलित पोषक तत्वों की उपस्थिति आहार में नहीं होगी व्यक्ति का इम्यून सिस्टम उत्तम नहीं होगा।वर्तमान परिस्थिति में मनुष्य के जीवन का महत्वपूर्ण टैगलाइन “अब बनेगा हर एक निवाला इम्यूनिटी बढ़ाने वाला” बन गई है। इन्हीं विचारों के साथ विभाग द्वारा एक्टिव न्यूट्रिएंट्स हेल्प इन इम्यूनिटी बूस्टर सप्लीमेंट विषय पर वेबीनार का आयोजन किया जा रहा है।
वेबीनार की संयोजक डॉ रीना मालवीय ने बताया कि महामारी के इस दौर में हम अक्सर विशेष खाद्य पदार्थ विटामिन्स  और मिनरल्स की तलाश करते हैं क्योंकि यह तत्व हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं परंतु हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बूस्टर की संरचना थोड़ी जटिल होती है। संतुलित आहार के साथ साथ कुछ अन्य कार्य जैसे पर्याप्त नींद व्यायाम शरीर को संक्रमण से लड़ने की क्षमता देता है। इस महामारी ने हमें अपने सीमित साधनों एवं घरेलू सामग्री का उपयोग करना सिखा दिया है। हमारे घरों में उपलब्ध मसाले जो बेस्ट सप्लीमेंट भी है ,उनका प्रयोग हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाने के साथ-साथ एक्टिव न्यूट्रिएंट्स को उनके कार्य करने में सहायता करता है।
 डॉ रश्मि श्रीवास्तव सीनियर डाइटिशियन भोपाल ने कोरोनावायरस इम्यूनिटी का महत्व, इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय, माइक्रोन्यूट्रिएंट्स एवं मैक्रोन्यूट्रिएंट्स पर विस्तार से व्याख्यान दिया।
   डॉ संजय कुमार मिश्रा मुख्य डाइटिशियन एच एम आर आई हॉस्पिटल पटना ने इम्यूनिटी के विशिष्ट प्रकारों इननेट, एक्टिव एवं पैसिव इम्यूनिटी इम्यूनाइजेशन की प्रक्रिया इम्यून सिस्टम के कार्य एवं अदरक, लहसुन, गिलोय, आंवला, हल्दी, दालचीनी, इलायची आदि के औषधीय गुणों पर विस्तार से बताएं।
डॉ पायल परिहार डाइटिशियन बंसल हॉस्पिटल भोपाल ने बताया कि पर्याप्त नींद लेने से एवं खाने में दाल ,खड़ा मसाला, चिया सीड, जूस एवं पर्याप्त मात्रा में पानी  पीने से इम्युनिटी बढ़ती है।
 वेबीनार का सफल संचालन डॉक्टर रागिनी सिकरवार ने किया मुख्य अतिथि एवं वक्ताओं के प्रति आभार व्यक्त डॉ नीता सोलंकी ने किया एवं श्री देवेंद्र सैनी ने तकनीकी सहयोग प्रदान किया । इस अवसर पर महाविद्यालय के सभी प्राध्यापक एवं छात्राएं ऑनलाइन उपस्थित रहे।इस अवसर पर डॉ मनीष चंद्र चौधरी, डॉ आशीष सोहगौरा, डॉक्टर अखिलेश यादव, दुर्गेश राने, रफीक अली इत्यादि उपस्थित रहे।