पहली बार सीएम हेल्‍पलाइन के खिलाफ याचिका, परिवाद माना

भिण्‍ड से डॉ.रवि शर्मा

भिंड ,२८ अक्टूबर,अभीतक – आमजन की समस्‍याओं के त्‍वरित निराकरण के लिए सरकार द्वारा प्रारंभ की सीएम हेल्‍पलाइन 181 के खिलाफ जिला सत्र न्‍यायालय में एक याचिका दायर की गई है, जिसमें उन्‍होंने हेल्‍पलाइन पर की गई शिकायतों पर कार्रवाई किए जाने की मांग की है। जिले में पहली बार किसी आवेदन ने सीएम हेल्‍पलाइन पर शिकायत का निराकरण न होने पर न्‍यायालय की शरण ली है। वही न्‍यायालय ने भी इसे परिवाद मान लिया है। दरअसल, सदर बाजार निवासी एडवोकेट मुकेश जैन 26 नवंबर 2017 को जैन महाविधालय भिण्‍ड में फर्जी दस्‍तावेज पहुंचाए जाने के संबंध में सीएम हेल्‍पलाइन पर शिकायत की गई थी। सीएम हेल्‍पलाइन से एडवोकेट जैन का पक्ष लिए बगैर उसे फोर्सली बंद कर दिया। इसके बाद उन्‍होंने लगातार 7 शिकायतें की गई। लेकिन शिकायतो को निराकरण किए बगैर उन्‍हें भी फोर्सली बंद कर दिया गया। एडवोकेट जैन ने 18 जुलाई 2019 को सीएम हेल्‍पलाइन को ही बंद किए जाने की शिकायत कर दी। खास बात तो यह रही कि सीएम हेल्‍पलाइन न इस शिकायत को स्‍वीकार करते हुए उसके लिए एल-1 स्‍तर का अधिकारी नियुक्‍त कर दिया गया। लेकिन बाद में उन्‍होने इसे भी फोर्सली बंद कर दिया।

प्रमुख सचिव म.प्र.शासन और कलेक्‍टर भिण्‍ड को बनाया पार्टी

मुकेश जैन एडवोकेट द्वारा न्‍यायालय में लगाई गई याचिका में प्रदेश सरकार के मुख्‍य सचिव, सीएम हेल्‍पलाइन के प्रभारी और भिंड कलेक्‍टर को पार्टी बनाया गया है। वही न्‍यायालय ने भी परिवाद मान लिया है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *