पानी के लिए जद्दोजहद, परेशान हो रहे ग्रामीण नलजल योजना का नहीं मिल रहा लाभ, निस्तारी पानी के लिए भी होना पड़ रहा परेशान

10:44 am or May 5, 2022

प्रहलाद कछवाहा

मंडला ५  मई ; अभी तक . आजादी के वर्षो बाद भी जिले के वनांचल, ग्रामीण क्षेत्र के लोग मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। लाखों की जनसंख्या वाले जिले में आजादी के बाद जिले का विकास तो हुआ है लेकिन ग्रामीण अंचल के लोग आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। जिले के वनांचल और ग्रामीण क्षेत्र में आज भी आवागमन, बिजली, पेयजल, स्वास्थ्य एवं संचार सुविधा सहित अनेक समस्याएं बनी हुई है। खासकर वनांचल क्षेत्रों में विकास नहीं हो पाया है। जिसके कारण ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं से जूझ रहे है। वनांचल क्षेत्रों में योजना का क्रियान्वयन सिर्फ कागजों में ही हो रहा है। आजादी के सही मायने तभी होंगे, जब प्रत्येक नागरिकों को

मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध होगी।

                          जानकारी अनुसार जिले में विकास के दावों की पोल जिले के कई पिछड़े और वनांचल क्षेत्रों की बदहाल स्थिति खोल रही है। आलम यह है कि आजादी के वर्षो बीत जाने के बाद भी निवास से 06 किमी दूर स्थित ग्राम पंचायत मोहगांव के पोषक ग्राम भटगांव में आज दिनांक तक नलजल योजना का लाभ नहीं मिल पाया है।  749 की आबादी वाले ग्राम भटगांव के लोग पेयजल के लिए परेशान हो रहे है। इस समस्या को लेकर ग्रामीणों द्वारा कई बार शिकवा, शिकायत और प्रदर्शन कर चुके है, लेकिन इस समस्या का समाधान आज दिनांक तक नहीं हो सका है। ग्रामीण चिलचिलाती धूप में निस्तारी पानी के लिए करीब डेढ़ किमी दूर जाने मजबूर है।

ग्रामीणों ने बताया कि भटगांव के निवासियों को निस्तारी पानी के लिए भी मशक्कत करनी पड़ रही है। जिसके कारण ग्रामीणों का समय के साथ अन्य कार्य भी प्रभावित हो रहे है। बता दे कि निस्तारी पानी के लिए ग्रामीणों को ग्राम से करीब 500 मीटर की दूरी में गौर नदी से पानी उपलब्ध हो जाता है। जिससे घर के मवेशियों और लोगों को निरस्तारी पानी के लिए परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है, लेकिन गौर नदी जाने वाले मार्ग को ग्राम बंदरिया के ही एक व्यक्ति द्वारा बंद कर दिया गया है। जिसके कारण लोगों को निस्तारी पानी के लिए बेहद परेशानी उठानी पड़ती है।

नलजल योजना का नहीं मिल रहा लाभ :

विकासखंड निवास के ग्राम भटगांव में शुद्ध पेयजल के लिए कोई पुख्ता इंतजाम नहीं है। यहां आज दिनांक तक नलजल योजना का लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल पाया है। जबकि जिले में जल जीवन मिशन के तहत घर-घर नल कनेक्शन किया जा रहा है, लेकिन ग्राम भटगांव में जल जीवन योजना का लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल पाया है, जिसके कारण लोगों को पीने के पानी और निस्तारी पानी के लिए परेशान होना पड़ता है। ग्रामीणों ने ग्राम में निस्तारी व पीने के पानी की व्यवस्था कराने की मांग की है।

परेशान हो रहे ग्रामीण:

ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम में छह हैंड पंप है, लेकिन इसमें से एक ही हैंडपंप चालू है, जिससे पूरे गांव को पानी की पूर्ति नहीं हो पाती है। यहां निस्तारी पानी के लिए ग्राम से 500 मीटर दूर गौर नदी जाना पड़ता है, लेकिन गौर नदी जाने वाले मार्ग में ग्राम के ही एक व्यक्ति द्वारा जाने वाले मार्ग को बंद कर दिया गया है।  जिसके कारण घरेलू पशुओं को पानी पिलाने की परेशानी हो रही है। मार्ग बंद हो जाने के कारण ग्रामीणों को डेढ़ किमी घूम कर गौर नदी जाना पड़ रहा है। जिसके कारण ग्रामीणों को खासी परेशानी उठानी पड़ रही है।

प्रशासन और जनप्रतिनिधि को कर चुके शिकायत:

बता दे कि आम रास्ता में बाउंड्री बाल बनाकर ग्राम बंदरिया के एक व्यक्ति द्वारा बंद कर दिया गया है। जिसके कारण लोगों को गौर नदी जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस मार्ग का उपयोग संबंधित व्यक्ति द्वारा ही किया जा रहा है। इसकी शिकायत भी ग्रामीणों ने जनसुनवाई समेत अनुविभागीय अधिकारी निवास, थाना प्रभारी निवास को कई गई। इसके साथ ही इसकी शिकायत स्थानीय जनप्रतिनिधि, सांसद व विधायक को भी इस समस्याक े लिए आवेदन दिया गया, लेकिन आज दिनांक तक कोई सुनवाई नहीं की गई है। यहां ग्रामीणों के साथ पक्षपात किया जा रहा है। जिसके कारण ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है।

ग्रामीणों ने किया था विरोध प्रदर्शन:

विगत दिवस आक्रोशित ग्रामीणों ने चिलचिलाती धूप में ग्राम में व्याप्त समस्या के लिए विरोध प्रदर्शन भी किया था, जहां ग्रामीणों ने मार्ग में पत्थर रखकर मार्ग जाम कर दिया था। ग्रामीणों के प्रदर्शन करने के बाद निवास थाना प्रभारी और स्थानीय प्रशासन के  तहसीलदार मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों की समस्या जानी, जिसके बाद बंद मार्ग को तत्काल खुलवाया गया।

कोटवार की जमीन पर किया कब्जा:

ग्राम बंदिरया के एक व्यक्ति द्वारा मनमानी करते हुए ग्राम के कोटवार की जमीन पर कब्जा कर लिया गया है। बताया गया कि शासन द्वारा कोटवार को दी गई शासकीय भूमि को संबंधित व्यक्ति ने जेसीबी मशीन चलवाकर समतलीकरण करा रहा था, ग्रामीणों के विरोध करने के बाद समतलीकरण का कार्य बंद कराया गया। इस समतलीकरण कार्य की जानकारी कोटवार को भी नहीं थी, ग्रामीणों के द्वारा इस बात की जानकारी कोटवार को दी गई।
छात्रों को हो रही थी परेशानी:

बम्हनी से भटगांव की दूरी कम है

बताया गया कि ग्राम भटगांव में रहने वाले हाई स्कूल के छात्रों को ग्राम बम्हनी में स्थित हाई स्कूल जाना पड़ता है, लेकिन यहां का ग्राम भटगांव का मार्ग बंद होने के कारण छात्रों को लंबी दूरी तय करनी पड़ रही थी। बंद मार्ग से स्कूल जाने का शॉर्ट कट रास्ता है, जिससे छात्रों को आने जाने में आसानी होती है। लेकिन मार्ग बंद हो जाने के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था।

इनका कहना है
मामला संज्ञान में आया है, इस विषय पर मैने अनुविभागीय अधिकारी राजस्व से चर्चा की है, उन्होंने आज तक का समय निर्धारित किया है। मामले का निराकरण ना होने पर अपने स्तर से कार्रवाई करावाएंगे।
डॉ. अशोक मर्सकोले, विधायक, निवास

ग्रामीणों को न्याय मिलना चाहिए, इसके लिए में पूरा प्रयास करुगा ओर न्याय दिलाकर रहूंगा।
राम प्यारे कुलस्ते, पूर्व विधायक

भू राजस्व सहिता धारा 131 व 133 के तहत कार्यवाही की गई,बन्द गेट को खुलवा दिया गया है, जिसका अंतिम आदेश का लंबित प्रकरण चल रहा है।
राकेश खम्परिया, तहसीलदार निवास

आपके द्वारा मुझे जानकारी प्राप्त हुई है, मार्ग का प्रकरण न्यायालय में चल रहा है, पेयजल समस्या की बात करे तो, इसके लिए संबंधित विभाग को जानकारी देकर बंद पड़े हैंड पंपों का सुधार कार्य कराया जाएगा। फिलहाल पानी की समस्या के लिए सरपंच को पानी के टेंकर की व्यवस्था के निर्देश दे दिए गए है, जब तक समाधान नहीं होता तब तक ग्रामीणों को टेंकर से पानी उपलब्ध कराया जाएगा।
दीप्ति यादव, सीईओ, निवास

मुझे शासन द्वारा दी गई जमीन ग्राम बंदिया के एक व्यक्ति द्वारा कब्जा किया जा रहा था, इस भूमि में इसके द्वारा जेसीबी मशीन चलवाकर समतलीकरण कराया जा रहा था। जिसका विरोध ग्रामीणों द्वारा किया गया, इसकी जानकारी भी मुझे ग्रामीणों से लगी।
इमालदास, कोटवार, ग्राम बंदरिया

ग्राम भटगांव से ग्राम बम्हनी जाने के लिए एक शॉर्टकट मार्ग है, जिस पर बांउड्रीबाल बनाकर बंद कर दिया गया था, यहां से ग्राम बम्हनी जाने की दूरी कम है, जिससे हाई स्कूल के विद्यार्थियों को कम दूरी होने से सुविधा होती है।
नरेंद्र परस्ते, ग्रामीण

ग्राम भटगांव से 500 मीटर दूरी पर गौर नदी का उदगम स्थल है, यहां  गौरी माता भगवान शिव ओर हनुमान जी का मंदिर है जो लोगों के लिए आस्था का केन्द्र है, यहां जाने वाले मार्ग को बंद कर दिया गया था, जिसका प्रकरण न्यायालय में चल रहा है।
गुलाब सिंह मरावी, ग्रामीण