पार्किंग के संबंध में करो लोगों को जागरूक  हाईकोर्ट ने दिये निर्देष

सिद्धार्थ पांडेय

जबलपुर २५ सितम्बर ;अभी तक; सडकों में वाहन की पार्किंग किये जाने के खिलाफ हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गयी थी। याचिका में कहा गया था कि मोटर व्हीकल एक्ट,नगर निगम एक्ट तथा पुलिस एक्ट में पार्किग स्थल में का प्रावधान है। इसके बावजूद भी षहर में महज खानापूर्ति के लिए पार्किग स्थल निर्धारित किये गये है। याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट जस्टिस संजय यादव तथा जस्टिस बी के श्रीवास्तव की युगलपीठ ने याचिकाकर्ता को निर्देषित किया है कि पार्किंग के संबंध में लोगों को जागरूक करने का कार्य करें और अगली सुनवाई के दौरान स्टेटस रिपोर्ट पेष करें।
आॅल इंडिया वूमेंस कांफ्रेस की सचिव गीता षरद तिवारी की तरफ से दायर में षहर की अराजग यातायात को चुनौती दी गयी थी। याचिका में कहा गया था कि षहर में व्यवस्थित पार्किंग स्थल नहीं है। जिसके कारण षहर की सडक पार्किंग स्थल बनी हुई है। सडक के दोनों तरफ पार्किंग लाइन बनाकर वाहन खडे कर दिये जाते है। जिसके कारण सडको पर अक्सर जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है और लोगों को परेषानी का सामना करना पडता है। मोटर व्हीकल एक्ट,नगर निगम एक्ट तथा पुलिस एक्ट में पार्किंग स्थल का प्रावधान है। नियम अनुसार कलेक्टर,पुलिस अधीक्षक तथा गठित कमेटी के सदस्यों को इस संबंध में निर्णय का अधिकार है।

ष्युगलपीठ ने गुरूवार को जारी अपने आदेष में कहा है कि रोड के दोनो तरफ वाहन खडे रहने की मुददा याचिकाकर्ता ने उठाया है। उनका यह भी कहना है कि यह दृष्य हाईकेार्ट के बाहर भी देखा जा सकता है। युगलपीठ ने याचिकाकर्ता को निर्देषित किया है कि वह पार्किंग के संबंध में जनता को जागरूक करने सार्वजनिक स्थलों में पोस्टर लगाये। पम्पलेट बांटे तथा अखवारों प्रकाषन करवाये। जनता को जागरूक किये जाने के कार्यो के स्टेटस रिपोर्ट न्यायालय में पेष करें। याचिका पर अगली सुनवाई 9 नवम्बर को निर्धारित की गयी है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *