पीडीएस के तहत अब फोर्टिफाइड चावल वितरण की तैयारी

6:08 pm or May 12, 2022

मयंक भार्गव बैतूल से

बैतूल 12 may ;abhi tk;  ग्रामीण इलाकों में बढ़ते कुपोषण से ग्रामीणों को निजात दिलाने के लिए शासन अब पीडीएस के तहत फोर्टिफाइड चावल वितरण की कर रहा है। चावल को पोष्टिक बनाने के लिए प्रोसेसिंग दौरान आयरन से भरपूर पोषक तत्व मिलाये जायेंगे। प्रदेश के कुछ जिले में फोर्टिफाइड चावल का वितरण शुरू हो गया है। परंतु बैतूल जिले के उपभोक्ताओं को अभी इंतजार करना पड़ेगा।

फोर्टिफाइड चावल के लिए अन्य जिलों पर निर्भरता

जिला आपूर्ति अधिकारी एके कुजूर ने बताया कि भोजन में भरपूर पोषक तत्वों की उपलब्धता के लिए शासन द्वारा सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत फोर्टिफाइड चावल के वितरण का निर्णय लिया है। प्रदेश के कुछ जिलों में आयरन बेस्ट पोषक तत्वों वाले फोर्टिफाइड चावल का वितरण शुरू भी हो गया है। डीएसओ श्री कुजूर ने बताया कि बैतूल जिले के राइस मिलरों में फोर्टिफाइड करने की तकनीकि नहीं है। इसलिए अभी जिले में वितरण शुरू नहीं हुआ है। उन्होंने बताया कि फोर्टिफाइड राइस के लिए हम अन्य जिलों पर निर्भर है। फोर्टिफाइड राइस मिलते ही पीडीएस के उपभोक्ताओं को वितरित किया जायेगा।

प्रतिमाह 1466 टन चावल का वितरण

उल्लेखनीय है कि बैतूल जिले में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत विभिन्न श्रेणी के उपभोक्ताओं को औसतन 1466 टन चावल का तथा 5969 टन गेहूं का वितरण प्रतिमाह किया जाता है। उपभोक्ताओं की संख्या में कमी-बढ़ोत्तरी होने पर वितरण का आंकड़ा भी घट-बढ़ जाता है।