पुलिस के हत्थे चढ़े दो एटीएम बैटरी चोर, 16 बैटरी जब्त

मयंक भार्गव

बैतूल 21 अक्टूबर ; अभी तक ;  दो युवकों को बैंकों में मरम्मत और रिपेयरिंग कार्य करने का अच्छा खासा मेहनताना मिलता था। लेकिन लालच आने से दोनों युवक चोर बन गए। इन दोनों आरोपियों के पास से कोतवाली पुलिस ने डेढ़ दर्जन एटीएम की बैटरी जब्त की है। चोरों के खिलाफ कोतवाली पुलिस ने प्रकरण भी दर्ज किया है।

एक ही रात में चार एटीम से चोरी बैटरी

कोतवाली टीआई रत्नाकर हिंगवे ने बताया कि थाना क्षेत्र में एक ही रात में यूनियन बैंक, सेंट्रल बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और एसबीआई के एटीएम से बैटरी चोरी की घटना हुई थी। चोरी की इन घटनाओं को ट्रेस करने एक टीम बनाई गई थी। इस टीम ने कंट्रोल रूम के कैमरों की मदद से 24 घण्टे के भीतर ही आरोपी गौरव पिता गोपीलाल दुबे (35) ड्रीम सिटी इंदौर और दिलीप पिता कैलाश पटेल (30) ग्राम सिलोदा जिला इंदौर को पकड़ा गया। उनके कब्जे से चोरी की गईं 16 बैटरियां और घटना में प्रयुक्त टाटा टियागो कार बरामद की गई है।

बैंकों में करते थे मेंटनेंस कार्य

टीआई श्री हिंगवे ने बताया कि दोनों आरोपी जेगल कम्पनी में काम करते हैं और प्राइवेट बैंकों में रिपेयरिंग तथा मेंटेनेंस का कार्य करते हैं। इसके चलते इन्हें एटीएम लॉबी के बेक रूम की सम्पूर्ण जानकारी होती थी। वे बेक रूम में रखी बैटरियों के वायर को अपने पास रखे औजारों से काट लेते थे और बैटरियां चुरा लेते थे। यह बैटरियां वे अपनी कार से ले जाते थे। चोरी गई बैटरियों को स्क्रैप में बेचने की उनकी योजना था। पुलिस ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया है।

जल्द अमीर बनने दिया घटना को अंजाम

पुलिस पूछताछ में बैटरी चोरी गौरव और दिनेश ने बताया कि उनके मन में लालच आ गया था और वह जल्द अमीर बनना चाहते थे। इसी के चलते उन्होंने एटीएम की बैटरी चोरी करना प्रारंभ कर दिया। उन्होंने बताया कि उनका अच्छा खासा मेंटनेंस का कार्य चल रहा था लेकिन लालच के चलते वह इस काम में आ गए। बहरहाल लालच व्यक्ति को कहां पहुंचा देता है इसका यह घटना प्रत्यक्ष उदाहरण है।