पुलिस विभाग में नौकरी दिलाने 10 लोगों से ऐंठे 5 लाख

10:47 pm or October 5, 2021

एस पी वर्मा

सिंगरौली,5 अक्टूबर ,अभीतक –
         देश ,प्रदेश व जिले में  बढ़ती बेरोजगारी का फायदा उठा कर कम पढ़े लिखे लोगों को  टार्गेट कर पुलिस विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर नकली  महिला पुलिस  हेड कांस्टेबल  बन कर एक दर्जन लोगों से लाखों रुपये ऐंठने वाली शातिर महिला को  उसके  सहयोगी नटवरलाल  पति को *नवानगर टी आई   यू पी सिंह एंड टीम*  ने गिरफ्तार कर सलाखों के भीतर भेज दिया है। फर्जी महिला  हेड कांस्टेबल  व उसके नटवरलाल  पति के पास से *नकली पुलिस का ड्रेस , मोबाइल व पुलिस  वर्दी की कई तस्वीर आदि* बरामद हुआ है। गिरफ्तार महिला ने स्वीकार किया कि  जिला क्षेत्र के तकरीबन  एक दर्जन महिला -पुरुष  बेरोजगारो से पुलिस विभाग  में नौकरी दिलाने के नाम पर एडवांस के तौर पर  5 लाख रुपये ले  चुकी  की है ,यदि वह गिरफ्तार नही होती इन लोगों से  बचे बकाया लाखो रुपये भी वसूल लेती।
    उक्ताशय की जानकारी देते हुए *नवानगर  टी आई  यू.पी. सिंह* ने बताया कि उन्हें  सूचना मिल रही थी कि कोई अज्ञात महिला नवानगर एवं उसके आसपास के गावों में जाकर  पुलिस विभाग में  नौकरी दिलाने व   जल्द  ज्वाइनिंग लेटर दिलाने के नाम पर मोटी रकम  लेकर गायब हो जाती है। इस काम में उसके साथ एक युवक भी साथ रहता है। जिसके बाद  ऐसे महिला पुरूष की तलाश में नवानगर पुलिस की एक टीम जुट गई कि इसी बीच *माजनकला निवासी  भुक्तभोगी  मोहित कुमार पनिका पिता रामसजीवन पनिका उम्र 18 वर्ष* प्रत्यक्ष रूप से  फरियादी के रूप में सामने आया और उसने थाने में सूचना देकर बताया कि पुलिस विभाग  में भर्ती कराने के नाम पर एक औरत जिसका नाम “आरती कृष्णन” है। अपने एक पुरूष साथी के साथ नौकरी दिलाने के नाम पर पैसे लेकर गायब है।  *टी आई श्री सिंह* ने आगे बताया कि नकली पुलिस हेड कांस्टेबल  बन कर लोगो से पैसे ऐंठने वाली महिला का नाम ,फ़ोटो व अन्य जानकारी मिलने के  टीम को और सक्रिय रूप से दोनों के  तलाश में लगा दिया और अंततः आरोपी *आरती कृष्णन उम्र  26 वर्ष* अपने  सहयोगी *पति  व्ही.सिरण जीवन कृष्णन उम्र 26 वर्ष पुत्र विनोद उम्र 27 वर्ष दोनो निवासी  मकान नंबर 199 जनता नगर , गोविंदपुर डी, थाना बोकारो थर्मल , जिला बोकारो, राज्य  झारखंड हाल पता मेंढोली थाना मोरवा*  के साथ पुलिस के हत्थे चढ़ गयी।दोनो के खिलाफ  धारा 420 ,34 के तहत कार्यवाही कर न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।
*आवेदको को भरोसा दिलाने ले जाती थी जबलपुर, मैहर व सतना*
आरोपीगण पर आवेदको को शक ना इसके लिए पति-पत्नी बड़े ही शातिर तरीके से उन सबको ज्वाइनिंग लेटर देने के नाम पर जबलपुर, रीवा, सतना व मैहर आदि कई स्थानों पर ले जाते और वहां पर होटल आदि में रोककर नकली पुलिस वर्दी पहन उन्हें अपने झांसे में लेकर इधर उधर घुमाते और  गोल मटोल बात बनाकर  वापस भेज देते।
*बकाया क़िस्त लेने के लालच में  पहुंचे सलाखों के भीतर*
*टी आई श्री सिंह* ने बताया कि
फरियादी मोहित कुमार से नौकरी दिलाने की बकाया क़िस्त लेने के लिए दोनो  नवानगर  क्षेत्र में आये  जिन्हें  पुलिस टीम ने रगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार होने के बाद दोनो ने  बताया कि मोहित से नौकरी दिलाने का  1 लाख में सौदा हुआ था  जिसने 35 हजार दिए थे , बची हुई राशि की दूसरी क़िस्त लेने आये  और पुलिस की गिरफ्त में आ गए।
*इन 10 लोगों से एडवांस के नाम पर ऐंठे 5 लाख*
नकली महिला कांस्टेबल व उसके नटवरलाल पति के झांसे में फंस कर *मोहित कुमार पुत्र राम सजीवन पनिका उम्र 18 वर्ष निवासी माजनकला 35000,  सुशीला देवी निवासी माजनकला  47500 रूपए, पूजा पनिका 88000 रूपए, रीतू कुशवाहा 15000 रूपए, विकास सिंह बरौली 95000 रूपए, राहुल रजक 25000 रूपए, त्रिपुरारी यादव निवासी अंबा 25000 रूपए, रूकमणि पनिका 28000 रूपए, सुशीला पनिका निवासी बलियरी थाना बैढ़न 25000 रुपये बतौर एडवांस* दिए। ठगी के शिकार लोगो की माने तो दोनों लोग अपनी बातों से भंवर जाल में ऐसे फंसाते की किसी को कोई शक ही नही होता।
*कार्यवाही में इनकी रही भूमिका*
 *पुलिस अधीक्षक  बीरेन्द्र कुमार सिंह के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक  अनिल सोनकर एवं नगर पुलिस अधीक्षक  देवेश कुमार पाठक के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी नवानगर यू पी सिंह के नेतृत्व में उनि सी के सिंह, सउनि नृपेन्द्र सिंह, प्रआर अनूप सिंह, कुलदीप शर्मा, राजेश सिंह, श्यामबती सिंह, आरक्षक रानू सिंह, सतीश बागरी एवं राजा ठाकुर का सराहनीय भूमिका रही है।*