पूर्व प्राचार्य को धोखधडी एवं कूटरचना के आरोप में 02 वर्ष का सश्रम कारावास

महावीर अग्रवाल 

मंदसौर ९ अक्टूबर ;अभी तक;  अपर सत्र न्यायाधीश श्री आशीष टॉंकले द्वारा धोखधडी एवं कूट रचना के आरोप में आरोपित तेजमल पिता लक्ष्मीनारायणउदिया आयु 51 साल निवासी मारूति नगर, गरोठ थाना गरोठ जिला मंदसौर को 02 वर्ष का सश्रम कारावास एवं कुल 6000/- रूपये जुर्माने से दण्डित किया गया।

अभियोजन सहायक मीडिया सेल प्रभारी अश्विन श्रीवास्तव द्वारा बताया गया कि दिनांक 16.06.2010 से दिनांक 23.11.2010 तक में आरोपित गरोठ में शासकीय कन्या उच्चतर मा. विद्यालय में प्राचार्य के पद पर रहते हुए इस अवधि के फर्जी एवं कूटरचित र्मेिडकल सिकनेस सर्टिफिकेट तथा मेडिकल फिटनेस सर्टिफिकेट को जानबूझकर अपने हित में उपयोग कर धोखाधडी की । इस संबंध में फरियादी द्वारा पुलिस अधिक्षक को शिकायत करने पर एसडीओपी गरोठ द्वारा जॉच की गई । जॉंच में अरोपित तेजमल के विरूद्ध धारा 420, 468, 471 भादवि का पाया जाने पर जॉच पूर्ण  कर अभियुक्त के विरूद्ध अभियोग पत्र थाना गरोठ  द्वारा न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।

प्रकरण के विचारण के दौरान माननीय न्यायालय के समक्ष अपर लोक अभियोजक के द्वारा रखे गये तर्को व तथ्यों से सहमत होकर माननीय न्यायालय द्वारा आरोपित तेजमल को विरूद्ध धारा 420 भादवि में 02 वर्ष का सश्रम कारावास, धारा 468 भादंवि में 02 वर्ष का सश्रम कारावास एवं धारा 471 भादंवि में 02 वर्ष का सश्रम कारावास एवं कुल 6000/- रूपये के अर्थदण्ड जुर्माने से दण्डित किया गया ।

प्रकरण में अभियोजन संचालन अपर लोक अभियोजक आर. एस. चन्द्रावत द्वारा किया गया।