प्रकाश पर्व पर   500  मास्क वितरण किए

3:37 pm or January 9, 2022

अरुण त्रिपाठी

रतलाम ९ जनवरी ;अभी तक;  गुरु गोबिंद सिंह सिखों के दसवें गुरु थे। पिताजी श्री गुरू तेग बहादुर जी की शहादत के उपरांत 11 नवम्बर सन 1675 को 10वें गुरू बने। आप एक महान योद्धा, कवि, भक्त एवं आध्यात्मिक नेता थे। सन 1699 में बैसाखी के दिन उन्होंने खालसा पंथ की स्थापना की जो सिखों के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण दिन माना जाता है।

              सिखों के धर्मगुरु श्री गोबिंद सिंह जी के जन्मदिवस प्रकाश पर्व पर सरदार सोनू ओबेरॉय परिवार द्वारा धान मंडी, गणेश देवरी ,सैलाना बस स्टैंड चौराहा, सीआईटी रोड,दो बत्ती चौराहे पर ग्रामीण क्षेत्र के आए मजदूरों एवं विभिन्न क्षेत्रों में दुकानों,ओटलों व फुटपाथ पर बैठे निराश्रितों को कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए 500 मास्क वितरण किये तथा जिन लोगों ने मास्क नहीं लगा रखा था उन लोगों को समझाइश भी दी।

इस अवसर पर पार्षद प्रतिनिधि इक्का बैलुत, विनोद राठौड़, बालमुकुंद चावड़ा, शहजाद खान ,शीतल सेन,सुशील मेहता,विक्रम चौहान,पंकज राठौड़, अमन ओबेराय, अनमोल ओबेरॉय आदि उपस्थित थे। यह जानकारी सोनू ओबेरॉय ने दी।