प्रतीकात्मक रूप से मनायी गई ब्रह्मलीन स्वामी श्री प्रत्यक्षानन्दजी महाराज की 39वीं निर्वाण पुण्य तिथी

7:17 pm or September 9, 2020
प्रतीकात्मक रूप से मनायी गई ब्रह्मलीन स्वामी श्री प्रत्यक्षानन्दजी महाराज की 39वीं निर्वाण पुण्य तिथी
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर। ९ सितम्बर ;अभी तक; माँ शिवना के तट पर विराजित संसार की एक मात्र विश्व प्रसिद्ध विशाल अष्टमूर्ति भगवान श्री पशुपतिनाथ के प्रतिष्ठाता ब्रह्मलीन पूज्यपाद स्वामी श्री प्रत्यक्षानंदजी महाराज की 39वीं महानिर्वाण पुण्य तिथी वर्तमान वैश्विक महामारी कोरोना के मद्देनजर कोरोना बचाव गाइड लाईन का  पालन करते हुए प्रतीकात्मक रूप से सन्तों के सानिध्य में आयोजित हुई।
उक्त जानकारी देते हुए बंशीलाल टांक ने बताया कि पूज्य संत सर्वश्री चैतन्य आश्रम मेनपुरिया के युवाचार्य मणी महेश चैतन्यजी महाराज, चैतन्यानंदगिरीजी महाराज नर्मदा तट, निर्मल चैतन्यजी महाराज हरिद्वार, उज्जैनमुनिजी उज्जैन, शिवचैतन्यजी महाराज प्रतापपुरा भीलवाड़ा, भक्तानंदजी महाराज प्रतापगढ़, देवानंदजी महाराज चैतन्य आश्रम मेनपुरिया के सानिध्य में मंदिर परिसर में प्रतिष्ठिता पूज्य श्री प्रत्यक्षानंदजी महाराज के श्री विग्रह का स्नान पूजन अभिषेक आरती की गई। पूजन विधी पू.पं. श्री कमलेश भट्ट, राकेश भट्ट, सुरेन्द्र आचार्य द्वारा सम्पन्न कराई गई। प्रशासनिक अधिकारी तहसीलदार नारायण नांदेड़ा, मंदिर प्रबंध समिति प्रबंधक राहुल रूनवाल, दिनेश परमार, दिनेश बैरागी इस अवसर पर उपस्थित थे।
इसके पूर्व स्वामी प्रत्यक्षानंदजी की साधना एवं तपस्थली श्री चैतन्य आश्रम मेनपुरिया आश्रम में उक्त सन्तों के सानिध्य में स्वामी प्रत्यक्षानंदजी महाराज के श्री विग्रह का पूजन अभिषेक, आती की गई। पुजारी विष्णु गिर गोस्वामी, मांगू गिरी गोस्वामी, ट्रस्टी ओमनारायण शर्मा, रणछोड़ कुमावत, बंसीलाल टांक, रामचन्द्र कुमावत, भेरूलाल सुथार, उदेलाल पड़ियार, पन्नालाल पटेल उपस्थित रहे।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *