प्रदेश में स्थापित होंगे १०१ पीएसए ऑक्सीजन प्लांट्स ; मुख्यमंत्री

रवि शर्मा

भिण्ड 07 जून ;अभी तक; मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि प्रदेश को ऑक्सीजन उत्पादन में पूर्णतरू आत्म-निर्भर बनाना है। प्रदेश में ऑक्सीजन उत्पादन इकाइयाँ स्थापित करने के साथ सभी संभागीय मुख्यालयों में पर्याप्त भंडारण व्यवस्था सुनिश्चित की जाए, जिससे किसी भी आपात स्थिति का सामना प्रभावी तरीके से किया जा सके। प्रदेश में स्थापित होने वाले सभी १०१ पीएसए ऑक्सीजन प्लांट्स में समय-सीमा में उत्पादन आरंभ किया जाए। प्रयास यह हो कि अधिकतम इकाइयाँ ३० अगस्त तक क्रियान्वित हो जाएँ। प्रदेश में ८०० मीट्रिक टन ऑक्सीजन भण्डारण की क्षमता विकसित की जाना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे प्रति सप्ताह इस दिशा में हो रही प्रगति की समीक्षा करेंगे।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निवास से प्रदेश में लगने वाले ऑक्सीजन प्लांट्स की स्थिति की समीक्षा की। अपर मुख्य सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री मोहम्मद सुलेमान बैठक में वर्चुअली सम्मिलित हुए। निवास पर हुई बैठक में प्रमुख सचिव औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन तथा चिकित्सा शिक्षा श्री संजय शुक्ला, स्वास्थ्य आयुक्त श्री आकाश त्रिपाठी उपस्थित थे।
कोई महत्वपूर्ण और संवेदनशील स्थान नहीं छूटे
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश को ऑक्सीजन में आत्म-निर्भर बनाने के लिए शासकीय और निजी औद्योगिक इकाइयों के साथ सीएसआर तथा निजी दानदाताओं द्वारा भी पहल की जा रही है। अतः प्रदेश का समग्रता में प्लान बनाकर औद्योगिक इकाइयों तथा भंडारण व्यवस्था की स्थापना की जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी महत्वपूर्ण और संवेदनशील स्थान नहीं छूटे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के उद्यमियों को भी प्रोत्साहित किया जाए। इसके लिए उन्हें आवश्यक सहायता उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बीना रिफायनरी और बावई में स्थापित हो रहे ऑक्सीजन प्लांट्स की प्रगति की जानकारी भी ली। पीएसए प्लांट्स की  प्रगति की बिन्दुवार समीक्षा की गई।
निरतंर बढ़ रही है उत्पादन क्षमता
बैठक में बताया गया कि प्रदेश में १२० मीट्रिक टन क्षमता की एयर सेपरेशन यूनिट पूर्व से ही कार्य कर रही हैं। इसके अतिरिक्त निजी क्षेत्र में बड़े अस्पतालों से ५० मीट्रिक टन से अधिक की क्षमता विकसित करने की जानकारी मिली है। नई निजी इकाइयों में ६० मीट्रिक टन से अधिक ऑक्सीजन उत्पादन की इकाइयाँ विकसित करने के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं।
३० सितम्बर तक स्थापित होंगे १०१ प्लांट्स
बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश की स्वास्थ्य संस्थाओं में १०१ पीएसए ऑक्सीजन प्लांट्स स्थापित करने के आदेश जारी किए जा चुके हैं। इनमें से १८ प्लांट्स की डिलेवरी हो चुकी है। सभी स्थानों पर ३० सितम्बर तक प्लांट्स स्थापित कर दिए जाएंगे। मेडिकल कॉलेजों में आठ, जिला अस्पतालों में ६०, सिविल अस्पतालों में १२ और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में १९ प्लांट्स लगाए जाएंगे। वारासिवनी, सैंधवा, काटजू अस्पताल, पांढुरना, कुक्षी, इटारसी, सारंगपुर, ब्यावरा, नसरुल्लागंज, लहार, मैहर और जावरा के सिविल अस्पताल लाभान्वित होंगे। इसके साथ ही बुधनी, रहटी, घोड़ाडोंगरी, सुवासरा, सीतामऊ, शामगढ़, नारायणगढ़, गरोठ, अम्बाह, चाचौड़ा, गोहद, हस्तिनापुर, करैरा, मोहाना, पोहरी, सेंवडा, कोलारस और चंदेरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में भी ऑक्सीजन प्लांट्स लगाए जाएंगे। जबलपुर और इन्दौर के एक-एक अस्पतालों में भी ऑक्सीजन प्लांट्स स्थापित किए जाएगा।