प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नवनिर्मित  निमाड़खेड़ी-मथेला रेलवे ट्रैक का लोकार्पण किया

मयंक शर्मा
खंडवा १५ नवंबर ;अभी तक;  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने  आज राजधरनी भोपाल प्रवाय द्वारा
आयेाजित जनजातीय गौरव दिवस काय्रक्रम मे भाग लिया ततपश्चात मीटर गेज को
ब्राडगज मे बदलने पर आकर ले गया नवनिर्मित  निमाड़खेड़ी-मथेला रेलवे ट्रैक
का लोकार्पण किया।
                 मध्य रेल्वे और पश्चिम रेल्वे को जोडने वाला यी रेलमार्ग अजमेर हैद्राबाद
का हिससा है और अमान परिवर्त्रन के लंबित महू अकोला रेलमार्ग में मथेला
निमाडखेडी सनावद तक रेलमार्ग का अमान परिवतैन एनएचपीसी द्वारा उपलबघ
कराये फंड से पूराा कियागया है। एनएचपीसी को सेल्दा(सनावद में जाप बिजली
धर स्थापित है और कच्चा माल कोयला की कारखाानेका आपूर्ति के लिये
रेलमार्ग जरूरी था।
                 यही कारण है कि , इस ट्रैक पर बीते 2 सालों से कोयला मालगाड़ी दौड़ रही है।
मोदी सरकार से उम्मीद थी कि, इस महीने खंडवा से सनावद तक मेमू ट्रेन चलना
शुरु हो जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। गेज कन्वर्जन के कारण बीते 4 साल से
खंडवा का इंदौर से रेल संपर्क टूटा हुआ है।
                  हाल ही में उपचुनाव में विजयी भााजपा संासद ज्ञानेश्वर पाटिल से विभिन्न
संगठनो ने प्रमुखता से इस माग को रखा और उन्ही की मांग पूर्ति पर बिना
कार्यक्रम आयोजित पीएम ने
सोमवार को मथेला-निमाड़खेड़ी रेलखंड का विद्युतीकरण सहित अमान परिवर्तन का
लोकार्पण भोपाल से  किया  है। कार्यक्रम का लाइव प्रसारण निमाड़खेड़ी रेलवे
स्टेशन पर दोपहर 3 बजे किया गया। लोकार्पण के पहले लोगों को उम्मीद थी कि
खंडवा से सनावद तक ट्रेन का संचालन शुरू होगा, लेकिन मांग अधर में रही।
खंडवा से सनावद तक मीटरगेज से ब्रॉडगेज परिवर्तन का काम शुरू हुआ तो
जुलाई 2017 में खंडवा से सनावद तक ट्रेन का संचालन बंद किया था। इसके बाद
पूरे मीटरगेज ट्रैक को बदलकर ब्रॉडगेज किया गया। सितंबर 2019 में मथेला
से निमाड़खेडी तक ट्रेन का आवागमन शुरू हो गया। जिस पर सेल्दा थर्मल पावर
प्लांट तक कोयले की ट्रेन चलाई जा रही है। सनावद से महू के लिए अंतिम
ट्रेन 1 सितंबर 2019 में चली थी। इसके बाद से ट्रेन का आवागमन बंद है।