प्रशासक के पॉवर का उपयोग करने पर करही सीएमओ की होगी जांच-कलेक्टर श्री कुमार

9:37 pm or May 30, 2022

आशुतोष पुरोहित

खरगोन 30 मई ;अभी तक; कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम की अध्यक्षता में प्रति सोमवार को 11 बजे आयोजित होने वाली टीएल बैठक निर्वाचन में अधिकारियों की व्यस्तता के कारण शाम 5 बजे आयोजित की गई। बैठक की शुरुआत कार्यवाही विवरण से हुई। बैठक के दौराम कलेक्टर श्री कुमार ने करही प्रभारी सीएमओ की जांच के आदेश दिए है। इनकी जांच के लिए डूडा श्रीमती प्रियंका पटेल एक समिति गठित करेगी। इसमे कोषालय अधिकारी को भी शामिल किया जाएगा। मामला प्रशासक के पॉवर के उपयोग करने को लेकर है। जांच कल से ही शुरू करने के निर्देश दिए गए है। इनके अलावा प्रभारी कृषि मंडी सचिव भीकनगांव श्री हरेन्द्रसिंह सिकरवार पर भी कलेक्टर श्री कुमार ने नाराजगी जताते हुए कहा कि इतनी ताकत कैसे आती है कि गलत कार्य करने लगते है। करही सीएमओ और कृषि मंडी सचिव भीकनगांव की जांच होगी। अगर दोषी पाए जाते है एफआईआर दर्ज करने में देरी नहीं करने के निर्देश दिए है। बैठक के दौरान अवैध कॉलोनी की समीक्षा में सहायक संचालक नगर व ग्राम निवेश अनुपस्थित होने पर अपर कलेक्टर श्री जेएस बघेल को शोकाज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं। बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री दिव्यांक पटेल, एसडीएम श्री मिलिंद ढोके एवं अन्य जिला अधिकारी उपस्थित रहे।

टीएल की शुरुआत कार्यवाही विवरण से

जैसा कि पिछली टीएल बैठक में निर्धारित किया गया था कि टीएल बैठक का कार्यवाही जारी होगा। इसी तारतम्य में टीकाकरण वाले बिंदु पर टीकाकरण अधिकारी से जानकारी मांगी गई। टीकाकरण अधिकारी की अनुपस्थिति में सीएमएचओ डॉ. डीएस चौहान ने जानकारी दी। पिछले सप्ताह के बाद टीकाकरण 12 से 14 वर्ष के द्वितीय डोज में 7 से बढ़कर 41 प्रतिशत की वृद्धि हुई। लेकिन कलेक्टर श्री कुमार ने 80 प्रतिशत से अधिक का लक्ष्य दिया था। सबके कम प्रगति वाली जनपद के बीएमओ और बीइओ से विस्तृत जानकारी ली गई। बीएमओ बड़वाह को निराशाजनक कार्य और निर्देशों के पालन नहीं करने पर वीसी में फंटकार लगाई। कलेक्टर श्री कुमार के निर्देश थे कि सभी एसडीएम और जनपद स्तर के अधिकारी अपने अपने कार्यालयों से लिंक के माध्यम से जुड़ेंगे लेकिन बीएमओ अपने घर से वीसी में जुड़े। उन्हें तत्काल एसडीएम कार्यलय बुलाया गया।

सीएमएचओ के 9 और सिविल सर्जन के 4 पॉइंट

बैठक में सीएम हेल्पलाईन की समीक्षा की गई। समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य विभाग के लंबित शिकायतों को लेकर एक सप्ताह में संतुष्टिपूर्वक बन्द की गई शिकायतों की जानकारी ली। विभाग के डीपीएम श्री मनीष भद्रवाले ने बताया कि हितग्राहीमूलक योजनाओं का डेटा लेकर भोपाल गए थे। लंबित शिकायतों में 96 को भुगतान करने के बावजूद संतुष्टिपूर्वक बन्द नहीं होने पर कलेक्टर श्री कुमार ने नाराजगी जताई। डीपीएम श्री भद्रवाले ने कहा कि जननी योजना में भुगतान हो गया है लेकिन प्रसूति सहायता में अपात्र होने पर लाभ नहीं दे पा रहे है। इसलिए शिकायतें संतुष्टिपूर्वक बन्द नहीं हो रही है। इस मामले पर कलेक्टर श्री कुमार ने सीएमएचओ और सिविल सर्जन द्वारा मॉनिटरिंग वाले क्रमशः 9 और 4 बिन्दुआंे की जानकारी ली। सिविल सर्जन 4 बिंदु भी नहीं बता पाएं। कलेक्टर श्री कुमार ने इन बिन्दुओं पर गहराई से कार्य करने के निर्देश देते हुए कहा कि टॉप पर आ जाओगे। इन बिन्दुआंे में स्वास्थ्य विभाग के मूल कार्य है। सीएम हेल्पलाईन की अब जिला पंचायत सीईओ श्री सिंह माइक्रो मॉनिटरिंग करेंगे।

एफआईआर से पहले अवैध निर्माण कार्य हटाए

टीएल बैठक के दौरान कलेक्टर श्री कुमार ने अवैध कॉलोनी के मामलों की समीक्षा की। वीसी के माध्यम से जुड़े सभी एसडीएम ने अपने-अपने अनुभागों में की गई कार्यवाही के बारे में बताया। खरगोन अनुभाग में ऐसे 4 प्रकरणों के बारे में सभाकक्ष में मौजूद एसडीएम श्री मिलिंद ढोके ने जानकारी दी। इसी तरह मण्डलेश्वर एसडीएम ने बताया कि 04 प्रकरण तैयार हुए है नोटिस जारी किए गए हैं। कलेक्टर श्री कुमार ने कहा कि एफआईआर से पहले अवैध निर्माण कार्य हटाये और नगर पालिका वहां पर अवैध कॉलोनी का बोर्ड लगाए जिससे नागरिकों को सहूलियत मिलेगी। पंजीयक विभाग 15 दिनों में जैसे ही सूची देता है उसी अनुरूप एसडीएम कार्यवाही करेंगे।

यूडीसी के कॉन्ट्रेक्टर कलेक्टर के समक्ष मौजूद होंगे

टीएल बैठक के दौरान महेश्वर में नर्मदा नदी में मिलने वाले गंदे पानी के बारे में सीएमओ श्री मनोज शर्मा से जानकारी ली गई। सीएमओ श्री शर्मा ने बताया कि 4 नाले मिल रहे हैं। कलेक्टर श्री कुमार ने कहा कि आस्था के साथ खिलवाड़ मत करो। इसी जल में आप भी, मैं भी और आम नागरिक भी नहाते हैं। तीन वर्षों से प्रोजेक्ट स्वीकृत है अभी तक कार्य प्रारम्भ नहीं हुआ है। जबकि रुपये और जगह भी दे दी गई है। फिर ऐसी क्या बात हुई है एसडीएम कॉन्ट्रेक्टर को सूचित करें समक्ष में उपस्थित हो। खरगोन में भी अमृत योजना का पानी नही पहुँचा पाने पर यहां के कॉन्ट्रेक्टर को भी सीएमओ श्रीमती पटेल सूचित करेगी। दोनो सीएमओ से कहा कि पानी देना सबसे आसान कार्य है पर यहां इतनी देरी हो रही है।

नीचे जाकर देखेंगे तो सब बढ़िया होगा

बैठक के अंत मे कलेक्टर श्री कुमार ने सभी जिला अधिकारियों और एसडीएम सहित बीएमओ को निर्देश दिए कि ग्राउंड लेवल पर नीचे जाकर देखें सब सही होगा। टीएल के दौरान अडॉप्ट एन आंगनवाड़ी, चना खरीदी, करही पडल्या में पाइप लाइन, जन जीवन मिशन और निर्वाचन को लेकर भी निर्देशित किया गया।