प्रसंग – पर्यूषण महापर्व चौथा दिवस बचपन से अस्सी की उम्र के तपस्वियों को लगी मेहंदी

7:13 pm or September 6, 2021
प्रसंग - पर्यूषण महापर्व चैथा दिवस बचपन से अस्सी की उम्र के तपस्वियों को लगी मेहंदी
महावीर अग्रवाल

मंदसौर ६ सितम्बर ;अभी तक;  दशपुर की पावन धर्म धरा पर जैन समाज का ऐतिहासिक तप – तपस्याओं का महायज्ञ पूर्णाहुति की ओर अग्रसर है।
तीर्थराज श्री अजितनाथ जैन मंदिर में वर्षावास हेतु विराजित साध्वीश्री डाॅ. अमृतरसाश्रीजी मसा आदि ठाणा 3 की प्रेरणा से पर्यूषण पर्व के अवसर पर तप तपस्याओं का महायज्ञ निरंतर पूर्णता कि ओर अग्रसर हो रहा है। तप आराधनाओं में बचपन से लेकर अस्सी वर्ष तक श्रावक श्राविकाएं एवं बालक – बालिकाओं के द्वारा सहभागिता दर्ज करवाई जा रही है। नगर के इतिहास में प्रथम बार 100 से अधिक की संख्या में बड़ी तपस्याएं पुण्य सम्राट गच्छाधिपति आचार्य विजयजयंतसेन सूरिश्वरजी मसा के तप मंडप में होना किसी चमत्कार से कम नहीं है।

              साध्वीश्रीजी द्वारा प्रतिदिन तप आराधना सानंद संपन्न हो इस हेतु विशेष धार्मिक अनुष्ठान प्रतिदिन किये जा रहे है। पर्यूषण पर्व के चैथे दिन तप मंडप के नीचे मं़त्रोच्चारण के बीच तपस्यारत्न  श्रावक श्राविकाआंे की मेहन्दी की रस्म मोहनलाल, अशोककुमार, विजयकुमार, अजय कुमार चपरोत परिवार द्वारा संपन्न करवाई गई। मेहन्दी के कार्यक्रम में प्रत्येक तपस्वी को मेहन्दी लगाई गई। यह माहौल देखते ही बन रहा था हर कोई तपस्या के रंग में रंगता हुआ नजर आ रहा था।
                  इस अवसर पर साध्वीश्री डाॅ. अमृतरसाश्रीजी मसा ने धर्म सभा को संबोधित करते हुए कल्पसूत्र का वाचन करते हुए कहा कि इसके श्रवण मात्र से पाप कर्मो का नाश होता है अतः इसे एकाग्रता से सुनना चाहिए। कल्पसूत्र का एक – एक शब्द एक – एक मंत्र है। यह जैन समाज के सभी ग्रंथों में उत्तम ग्रंथ है। कल्पसूत्र वाचन से पूर्व कल्पसूत्र ग्रंथ को अभा राजेन्द्र महिला परिषद द्वारा मसा जी को वैराया गया। वहीं कल्पसूत्र की प्रथम पंाच पूजा का लाभ लाभार्थियों द्वारा लिया गया। तीसरे दिन प्रवचन की प्रभावना का लाभ मनोहरलाल सोनगरा परिवार ने लिया। इस अवसर पर समाज अध्यक्ष गजेन्द्र हिंगढ, उपाध्यक्ष सुरेन्द्र लोढा, चातुर्मास समिति अध्यक्ष सुधीर लोढा, जिनेन्द्रकुमार सिसौदिया, जिनेन्द्र डोसी, पारसमल खाबिया, हिम्मतलाल संघवी, बाबुलाल पोरवाल, प्रदीप हिंगढ, पारसमल फांफरिया,  संघ सचिव अशोक खाबिया, चातुर्मास समिति के महामंत्री मनोहरलाल सोनगरा, देवेन्द्र चपरोत, देवेन्द्र मिश्रीलाल चपरोत, भारत कोठारी, हरिश चपरोत, बलवंत फांफरिया, श्रेयांश हींगढ, धर्मेन्द्र कर्नावट, अजय फांफरिया, अजय लोढा, सतीश लोढा, राजकुमार चपरोत, रोहित संघवी, निर्मल खाबिया, विजय चपरोत, अरविन्द पोरवाल  सहित बडी संख्या में श्रीसंघ के महिलाएं एवं पुरूष उपस्थित थे।

आज होगा महावीर जन्मकल्याणक का वाचन

                 पर्यूषण महापर्व के आज पंाचवें दिन भगवान महावीर स्वामी के जन्मकल्याणक का वाचन होगा। वाचन साध्वीश्री डाॅ. अमृतरसाश्रीजी मसा की निश्रा में प्रातः 9.15 बजे प्रारंभ होगा। वहीं वार्षिक चढावें भी बोले जायेंगे। जन्मकल्याण के अवसर पर जाजम बिछाई जायेंगी जिसका लाभ गजेन्द्रकुमार जी श्रैयांशकुमार हिंगड परिवार द्वारा लिया गया। यह जाजम आज भगवान अजीतनाथ जैन मंदिर जनकुपूरा से प्रारंभ होगा जो जीवागंज स्थित राजेन्द्र विलास पर पहुंचेगा।