प्राचीन जलसिंचाई पद्वति से अब फव्वारा जलसिंचाई में पारंगत हो रहे है जिलें के आदिवासी किसान

3:15 pm or November 14, 2021
प्राचीन जलसिंचाई पद्वति से अब फव्वारा जलसिंचाई में पारंगत हो रहे है जिलें के आदिवासी किसान
आशुतोष पुरोहित
खरगोन  १४ नवंबर ;अभी तक;  देश में कृषि सबसे प्राचीन कला है जिसे वनों में रहने वाली जनजातियों ने अपने जीवन को संरक्षित करने के लिए सिंचा है। प्रदेश में सतपुड़ा और विंध्यांचल पर्वत श्रेणी में रहने वाली भील जनजाति ने आरंभ में अपने कुनबे के पालन पोषण के लिए आखेट और खेती की प्राचीन कला को विकसित किया है। तो आज मप्र शासन ने इंही आदिम जातियों के लिए नित नवीन योजनाओं से इनके विकास में उजाले उंगाने के प्रयास किये है। खरगोन जिले के आदिवासी अंचल के दूर्गम पहाड़ियों में सदियों से खेती करने वाले किसान आज शासन की योजनाओं के बल पर आधुनिक खेती के अवसर भुना पा रहे है। कभी यव, शाळ, कुल्थियॉ और ज्वार बाजरे की खेती करने वाले किसान आज टमाटर, मिर्च, कपास, अदरक सौंप, स्ट्रॉबैरी और अनेक किस्मों की कृषि नई विचारधारा के अनुसार करने में लगे हुए है। प्रारंभ में जब पानी की आवश्यकता हुई तो कुएॅ खोदकर मोट के सहारे अपने छोटे-छोटे खेतों को सिंचने की परंपरा की शुरूआत करने वाले किसान आज जल की कमी को आधुनिक कृषि तकनीक फव्वारा (स्प्रींकलर) और टपक सिंचाई (ड्रीप एरिगेशन) के द्वारा दूर करने की आधुनिक कला में भी पारंगत हो गए है। किसी जमाने में पाट तकनीक से पहाड़ों की तलहटी में बहने वाले नाले या नदी की धारा को ऊंची पहाड़ी की चोटी तक पहुॅचा कर खेती करने वाले आदिम जनजाति किसान आज शासन की नलकुप खनन योजना को भी बखूबी उपयोगी बना रहे है।
*दूर्गम मनोरम वादियों में जमराल और मगन की तरह 8768 किसानों ने ड्रीप और 1111 किसानों ने बिछाई स्प्रींकलर की लाईन*
जमराल डुडवे जिलें के उन किसानों में से एक है जिनके पूर्वज कभी पाट और मोट के सहारे ज्वार और बाजरे की खेती किया करते थे। लेकिन आज परिर्वतन की सदियॉ गुजरने के बाद जब आधुनिक खेती की बात आयी तो भगवानपुरा जनपद के अतिदूर्गम गावों में से एक धरमपुरी के किसान जबराल को आधुनिक खेती से नाता जोड़ते हुए देख बड़ी खुशी होती है। जमराल के पास खेत तो पर्याप्त है खेत के पास ही नदी है भी है लेकिन जब जायद और रबी की फसल की बारी आती है तो वो भी किनारा कर लेती है। ऐसे समय में जबराल को उद्यानिकी विभाग से प्राप्त सहायता स्प्रींकलर और कृषि विभाग का नलकुप हर समय साथ देता है। अब जमराल कपास के साथ-साथ गेहॅू की भी खेती कर पा रहा है।
     जमराल की तरह ही झिरन्या जनपद के कटझिरा गावॅ के मगन है जिनके दादा परदादा भी मोट,पाट और फिर डीजल पंप से खेती करने लगे। लेकिन पानी की कमी से उनको शासन ने निराश नहीं होने दिया। ड्रीप सिस्टम अनुदान पर प्रदान कर आधुनिक खेती करने योग्य हौसला दिया। आज मगन अपने खेत में मिर्च, टमाटर और अब तो अदरक की भी खेती करने लगा हैं। जमराल और मगन की तरह हजारों किसान है जिनको उद्यानिकी अज्ञैर कृषि विभाग की अनुदान सहायता से आधुनिक संसाधन मिले है।
       आदिम जाति के किसानों को आधुनिक खेती की तकनीक से जोड़ने के लिए जिलें में उद्यानिकी और कृषि विभाग अग्रणी है। खरगोन जिले में आदिम जाति के किसानों को आधुनिक संसाधन मुहैया कराने में उद्याानिकी विभाग ने 2006 से 2021 तक 8002 किसानों को कुुल 6485.56 करोड़ रूपये के अनुदान पर ड्रीप और स्प्रींकलर जैसी आधुनिक तकनीक से रूबरू कराया है। इतना ही नहीं कृषि विभाग भी जनजाति समुदाय के कृषिगत कार्यो में सहभागी रहा है। कृषि विभाग ने वर्ष 2016-17 से अब तक 1111 किसानों 2196.17 लाख रूपये के स्प्रींकलर और 766 किसानों को 448.54 लाख रूपये के अनुदान पर ड्रीप सिंचाई यंत्र प्रदान किये है।