प्रेमिका के हत्यारे को आजीवन कारावास, विशेष न्यायधीश श्री आर.पी. सोनकर की न्यायालय का फैसला

8:26 pm or April 29, 2022

पन्ना संवाददाता

पन्ना २९ अप्रैल ;अभी तक; सहा.जि.लो.अभि. अधिकारी ऋषिकांत द्विवेदी के द्वारा बताया गया कि, न्यायालय विशेष न्यायाधीश (एट्रोसिटी) आर.पी.सोनकर द्वारा प्रकरण में फैसला सुनाते हुये, महिला की हत्या करने वाले आरोपी प्रभात साहू को आजीवन कारावास एवं अर्थदण्ड से दंडित किया गया।

अभियोजन कहानी सक्षेप में इस प्रकार है कि दिनांक 11.11.2018 को जिला चिकित्सालय पन्ना से थाना प्रभारी कोतवाली पन्ना को तहरीर प्राप्त हुई कि, अज्ञात आयु 20 वर्ष से 22 वर्ष निवासी छरतपुर मृत अवस्था में जिला चिकित्सालय पन्ना में डॉयल 100 वाहन से लाई गई है। जिसके साथ प्रभात साहू पिता मोहनलाल साहू, उम्र 22 से 24 वर्ष, निवासी छतरपुर भी लाया गया है जिसके गले में खरोंच के निशान है उक्त तहरीर पर से कोतवाली पन्ना में मर्ग क्रमांक 87/2018 धारा 174 दंप्रसं मृतिका पारो अहिरवार की मृत्यु  कायम किया गया एवं आरोपी प्रभात साहू का मेडीकल परीक्षण तथा मरणासन्न  कथन कराया गया। मृतिका पारो अहिरवार उम्र-19 वर्ष, निवासी-रामपुर थाना सटई, जिला-छतरपुर की शव पंचनामा कार्यवाही सुश्री दिव्या जैन, नायब तहसीलदार द्वारा की गई, मृतिका के शव का पीएम कराया गया एवं मर्ग जांच में साक्षियों के कथन, पी.एम. रिपोर्ट, घटना स्थल निरीक्षण, जप्त भौतिक साक्ष्य एवं डॉंक्टर से प्राप्त क्वेरी के आधार पर यह पाया कि, दिनांक 10.11.2018 की दरम्यानी रात पारो उर्फ पार्वती अहिरवार पिता रामरतन अहिरवार, आयु 19 वर्ष, निवासी-रामपुर का प्रेमी प्रभात साहू के पास आकर शादी करने के लिए कहने पर, आरोपी द्वारा इंकार करने पर, आरोपी पर शादी का दबाव बनाया जिसपर आरोपी प्रभात द्वारा पारो उर्फ पार्वती अहिरवार को तकिया से मुह दबाकर हत्या कर दी गई।

जिसके आधार पर आरोपी के विरूद्ध धारा 302 भादवि एवं धारा 3(2)(5) एससीएसटी एक्ट 1989 का अपराध क्र 750/2018 पर अपराध पंजीबद्ध कर अभियुक्त को गिरफतार किया गया तथा संपूर्ण विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया। प्रकरण का विचारण, न्यायालय विशेष न्यायाधीश (एट्रोसिटी) पन्ना, आर.पी.सोनकर के न्यायालय मे हुआ। शासन की ओर से प्रकरण की पैरवी करते हुये जितेन्द्र सिंह बैस, विशेष लोक अभियोजक पन्ना, द्वारा साक्षियों की साक्ष्य को विन्दुवार तरीके से लेखबद्ध कराकर न्यायालय में आरोपी के विरूद्ध अपराध संदेह से परे प्रमाणित किया गया तथा आरोपी के कृत्य को गंभीर श्रेणी का अपराध मानते हुये न्यायालय से अधिकतम दंड से दंडित किये जाने का निवेदन किया। जिस पर न्यायालय द्वारा अभिलेख पर आई साक्ष्यों, अभियोजन के तर्को तथा न्यायिक-दृष्टांतो से सहमत होते हुए अभियुक्त प्रभात साहू पुत्र मोहनलाल साहू, आयु 23 वर्ष, निवासी-चौबे कालौनी छतरपुर, थाना-सिविल लाइन, छरतपुर को धारा 3(2)(5) एससीएसटी एक्टथ 1989 में आजीवन कारावास व 5000 रूपये के अर्थदण्ड से दंडित किया गया, अर्थदण्ड के व्यतिक्रम पर 06 माह का अतिरिक्त, कठोर कारावास से दंडित किया गया।
06