फिल्म मेकिंग और रोजगार  विषय पर  उद्यानिकी महाविद्यालय में कार्यशाला हुई

9:11 pm or May 13, 2022
महावीर अग्रवाल
मंदसौर  १३ मई ;अभी तक;  सूचना क्रांति के इस दौर में सिनेमाई दुनिया तेजी से बदली है । इस बदलाव के चलते कई तरह के रोजगार  का सृजन फिल्म इंडस्ट्री में हुआ है । खास तौर पर देखा जाए तो आज वैश्विक सिनेमा का नया परिदृश्य हम सभी के सामने हैं । लिहाजा आज सिनेमाई दुनिया निर्देशक और कलाकारों से आगे निकलकर नए तकनीकी युग में प्रवेश कर गई है । अब यह आप पर निर्भर करता है की आप इस क्षेत्र में जाकर किस तरह का काम करना चाहते हैं । यह बात फिल्ममेकर वह सीने स्क्रीन राइटर प्रदीप शर्मा ने फिल्म मेकिंग पर आयोजित कार्यशाला में कही।
                             उल्लेखनीय है कि  कार्यशाला मंदसौर के राजमाता विजयाराजे सिंधिया उद्यानिकी महाविद्यालय में आयोजित की गई थी । दो दिवसीय कार्यशाला में महाविद्यालय के प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष, और अंतिम वर्ष में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं ने बड़ी संख्या में भाग लिया । फिल्ममेकर श्री शर्मा ने छात्र छात्राओं को फिल्म इंडस्ट्री की बारीकियों से अवगत कराया और इंडस्ट्री कितने प्रकार के रोजगार का सृजन कर रही है ? इसकी जानकारी दी । उन्होंने छात्रों को निर्देशन, पोस्ट प्रोडक्शन, प्री प्रोडक्शन, सिनेमैटोग्राफी ,एडिटिंग एवं सॉफ्टवेयर, एक्टिंग सीने स्क्रीन राइटिंग, सेट डिजाइन, कास्टिंग, कॉस्टयूम, लाइट एंड साउंड, मेकअप, पब्लिसिटी के अलावे फिल्म उद्योग से जुड़ी बारीकियों से भी छात्रों को उक्त जानकारी देते हुए मीडिया प्रभारी डॉ अंकित पाण्डेय ने अवगत कराया की कार्यशाला के आरंभ में महाविद्यालय के विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष और प्रोफेसरों ने फिल्म मेकर श्री शर्मा का गर्मजोशी से स्वागत किया। गौरतलब है कि है कार्यशाला नेशनल एग्रीकल्चर  एजुकेशन (NAHEP) प्रोग्राम के तहत आयोजित की गई ।