फॉरेस्ट रेंजर सपना विसारिया ने लकड़ी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली रोकी, पिता-पुत्र ने डेढ़ घंटे किया हंमागा; जब्त

भिण्‍ड से डॉ. रवि शर्मा-

भिंड २१ दिसंबर ;अभी तक; भिंड में बबूल के हरे पेड़ काटकर आरा मशीन पर लाए जा रहे थे। अवैध लड़की के परिवहन की सूचना पर वन विभाग की टीम ने ट्रैक्टर-ट्रॉली को पकड़ा लिया, तभी आरा मिल मालिक आ गया और उसने हंगामा खड़ा कर दिया। हंगामा किए जाने की सूचना फॉरेस्ट अफसर ने भिंड एसपी को दी। इसके बाद ट्रैक्टर-ट्रॉली को पुलिस कोतवाली में जब्त किया और फॉरेस्ट अफसर ने केस दर्ज कर लिया।

सोमवार की रात फॉरेस्ट रेंजर सपना विसारिया, अवैध लकड़ी के परिवहन को रोकने के लिए दल-बल के साथ मैदान में निकली। फॉरेस्ट रेंजर को सूचना मिली कि मंगतपुरा गांव से एक लकड़ी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली आ रही है, जोकि दबोहा मोड पर स्थित आरा मशीन पर पहुंचेंगी। इस सूचना पर वन विभाग की टीम सर्तक हो गई और मुखबिर द्वारा बताए हुए रास्ते में तैनात हो गई। वन अमले द्वारा जब हरे बबूल के पेड़ों की लकड़ी से भरे ट्रैक्टर-ट्रॉली को रोका गया, तभी आरा मिल मालिक प्रदीप ओझा और उसके दो बेटे आ गए। इन तीनों ने हंगामा खड़ा कर दिया। यह हंगामा करीब डेढ़ घंटा चला। तीनों ही फॉरेस्ट रेंजर सपना विसारिया पर हावी होने लगे। मौका पाकर फोरेस्ट रेंजर विसारिया ने भिंड के प्रभारी डीएफओ अमित बसंत निकम को फोन पर पूरे मामले की सूचना दी। डीएफओ ने तत्काल भिंड एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान को पूरे मामले से अगवत कराया। इस पर कोतवाली थाना पुलिस से मौके पर फोर्स पहुंच गया।

पुलिस ने जबरन गाड़ी में बैठाया

पुलिस के पहुंचने के बाद भी पिता और दोनों पुत्र हंगामा खड़ा करते रहे। पुलिस जवान सख्ती से पेश आए और उन्होंने जबरन पुलिस की गाड़ी में बैठाया और ट्रैक्टर-ट्रॉली को लेकर सीधे कोतवाली थाने पहुंचे। यहां ट्रैक्टर-ट्रॉली को जब्ती की कार्रवाई की गई।