फौजी कमलसिंह चन्द्रावत के सीआरपीएफ से सेवानिवृत्त होकर मंदसौर पहुंचने पर किया सम्मान

5:55 pm or May 2, 2022
महावीर अग्रवाल 
मन्दसौर २ मई ;अभी तक;  सूर्य नगर के प्रथम फौजी जिनकी प्रेरणा एवं मार्गदर्शन से सैकड़ों युवाओं ने सेना ज्वाइन करी ऐसे भाई श्री कमल सिंह चंद्रावत द्वारा सीआरपीएफ में 22 वर्षाे की सेवा के बाद सेवानिवृत्त होकर श्रीनगर से मंदसौर पहुंचने पर सम्मान किया गया।
                   अपने माता पिता के अकेले संतान होकर भी श्री कमलसिंह ने आर्मी जॉइन करने का फैसला किया एवं 22 वर्षाे तक अपने परिवार से दूर रहकर श्रीनगर ,जम्मू ,नीमच, छत्तीसगढ़,पश्चिम बंगाल,भोपाल एवं अमरनाथ यात्रा में सेवाएं दी।भाई कमलसिंह चन्द्रावत एक सच्चे राष्ट्रभक्त, मिलनसार होकर अध्यात्म में विशेष रूचि रखते हैं।अपनी पूरी सेवा काल में प्रत्येक वर्ष नवरात्रि में छुट्टी लेकर मां शक्ति की आराधना के लिए फौजी गरबा मंडल आयोजन करके पूरे 9 दिन मां शक्ति की भक्ति में तल्लीन रहते हैं। इसके अलावा सामाजिक एवं सार्वजनिक कार्याे के लिए हमेशा अत्यंत उत्साही रहते है।
                      आज मन्दसौर पहुंचकर श्री कमलसिंह चंद्रावत ने सर्वप्रथम भगवान पशुपतिनाथ दर्शन किये एवं उसके पश्चात गांधी चौराहा पर कई संगठनों द्वारा स्वागत सम्मान किया गया।इस अवसर पर बोलते हुए सांसद ने कहा की हमारे जिले तक का नाम सूर्यनगर ने दिया। यहां अनंत ऊर्जा का भंडार है। जहां सूर्य प्रतिमा स्थापित है ऐसे सूर्य नगर के समस्त फौजी भाइयों को मैं सेल्यूट करता हूं एवं सेवानिवृत्ति के अवसर पर बधाई शुभकामनाएं देता हूं। इस अवसर पर कई वक्ताओं द्वारा बधाई शुभकामनाएं दी गई।
गांधी चौराहे से डीजे एवं जुलूस के रूप में भारत माता चौराहा ,महाराणा प्रताप चौराहे  होकर सैकड़ों की संख्या में फौजी भाई ग्रामीण जन जुलूस के रूप में सूर्य नगर के लिए निकले  सूर्यनगर पहुंचते ही जोरदार आतिशबाजी एवं ढोल नगाड़ों से फौजी कमलसिंह का स्वागत किया गया। घर-घर शॉल श्रीफल एवं साफा एवं पुष्प माला से स्वागत सत्कार किया गया। यह जानकारी देवीलाल सुनार्थी ने दी।