बहुचर्चित पूर्व जिला पंचायत सदस्य डाली दमाहे हत्याकांड के मामले में 11 आरोपी बनाये गये

2:35 pm or June 1, 2022

आनंद ताम्रकार

बालाघाट एक जून ;अभी तक; ; ग्रामीण पुलिस थाना बालाघाट द्वारा जिले में बहुचर्चित पूर्व जिला पंचायत सदस्य तथा लोधी महासभा के उपाध्यक्ष डाली दमाहे हत्याकांड के मामले में 11 आरोपियों के विरुद्ध न्यायायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी भुपेंद्रसिंग के न्यायालय में कल 31 मई को प्रस्तुत किया गया मामले में 11 आरोपी बनाये गये है।

इस मामले में विश्व हिन्दू परिषद के प्रांत मंत्री ललित पारधी को भी आरोपी बनाया गया है जो घटना दिनांक से लेकर अब तक फरार है। मामले के प्रमुख आरोपी भाऊ अग्रवाल जो की विश्व हिन्दू परिषद का जिला अध्यक्ष है 11 आरोपियों में शामिल है। जो की जेल में है।

यह उल्लेखनीय है की विगत 28 फरवरी को रात्रि में बालाघाट के काली पाठ मंदिर के पास विश्व हिन्दू परिषद के प्रांत मंत्री ललित पारधी से डाली दमाहे के बीच विवाद हुआ था। इसके बाद रात्रि में लगभग 11 बजे जब डाली दमाहे गोगलई के शिव मंदिर में सो रहा था तभी इन आरोपियों ने जो चौपहिया तथा दो पहिया वाहनों से आये थे बलवा कर दिया भाउ अग्रवाल ने चाकू से डाली दमाहे पर घातक चोटे पहुंचाई वहीं अन्य आरोपियों ने लाठी डंडे से उसके साथ मारपीट की। इस बीच बीच बचाव करने आये डाली दमाहे के दामाद योगेश मोहारे आया तो उसकी कनपटी पर बंदूक तान दी गई और मारपीट करते रहे किसी तरह योगेश अपना बचाव करते हुए भाग निकला और अपनी जान बचाई।
घटना पश्चात डाली दमाहे को गंभीर अवस्था में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां से उनकी हालात बिगड़ने पर उसे गोंदिया महाराष्ट्र के निजी अस्पताल में ले जाया गया जहां 3 मार्च को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।
घटना की रिपोर्ट होने पर पुलिस ने इन 11 आरोपियों के विरूद्ध धारा 147,148,307,302 भादवि के तहत अपराध कायम कर विवेचना में लिया गया।
विश्व हिन्दू परिषद के प्रांत मंत्री ललित पारधी के घटना दिनांक से ही फरार होने पर उसके विरूद्ध 147,148,307,302,120बी तथा 109 भादवि के तहत अपराध कायम किया गया है। उसके फरार रहने पर धारा 173(8) जापताफौजदारी के तहत विवेचना जारी रहेगी। 269 पृष्ठ के अभियोग पत्र में 43 गवाह बनाये गये है।

इस मामले में भाउ अग्रवाल बालाघाट,अविनाश लिल्हारे गायखुरी, रियाज मोहम्मद गायखुरी, महेश बिसेन गायखुरी, संदीप कावरे गायखुरी, हेमंत रनगिरे कोसमी, प्रथम बैस बालाघाट, विरेन्द्र सूर्यवंशी बालाघाट, उदय आमाडारे बालाघाट, हर्ष वाघाडे बालाघाट को आरोपी बनाया गया है जो सभी जेल में है।