बांधवगढ़ की बाघिन अब संजय टाइगर रिजर्व में : नर बाघ भी छोड़ा जायेगा

6:19 pm or June 3, 2021
बांधवगढ़ की बाघिन अब संजय टाइगर रिजर्व में : नर बाघ भी छोड़ा जायेगा

विजय सिंह सीधी से  

सीधी, 3 जून ;अभी तक;  संजय नेशनल पार्क के कोर क्षेत्र अंतर्गत बांधवगढ़ टाईगर रिजर्व से लाई गई मादा बाघिन को जंगल में छोड़ा गया। बाघिन की उम्र अभी 3 वर्ष 1 माह की है। अगले चरण में इसी वन क्षेत्र में नर बाघ छोड़े जाने की योजना है।

       नेशनल पार्क संचालक वाय.पी. सिंह ने पत्रकारों को बताया कि कुसमी, सोनगढ़, रुंदा, भदौरा के बीच जंगल को मोहन परिक्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है। यहां बाघों का मूवमेंट तो होता था, किन्तु स्थाई निवास नहीं बन सका था। बाघिन के आ जाने से यहां भी बाघों का स्थाई कुनबा बढ़ जायेगा। अभी पार्क क्षेत्र में वयस्क बाघों के अलावा 5 से 11 माह के 7 शावक हैं।  

       संजय टाईगर रिजर्वसीधी अंतर्गत कोर क्षेत्र के 3 परिक्षेत्रों में नर एवं मादा बाघों सहित बाघों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है। वर्तमान में वयस्क बाघों के अतिरिक्त 05 से 11 माह तक के कुल 07 शावक हैं। परिक्षेत्र मोहन में तेन्दुआभालूहिरण, चीतल एवं सांभर आदि पाये जाते हैं। 1 जून को बांधगढ़ टाईगर रिजर्वउमरिया से मादा बाघिन को लाकर छोड़े जाने से अब बाघों के स्थाई निवास बन जायेगा।

       क्षेत्र संचालक ने बताया कि बाघों की संख्या में वृद्धि होने से पर्यटन बढ़ेगाजिससे स्थानीय व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध होगा। उन्होंने कुसमी क्षेत्र के समस्त नागरिकों से अपील की है कि कुसमी से सोनगढ़रूंदाभदौरा जाते समय अकेले न जावें तथा हमेशा सतर्कता बरतें।