बाघिन टी-30 का शव टुकड़ों में गोपद नदी से बरामद : 5 नवम्बर कि रात से थी लापता

विजय सिंह सीधी से   

सीधी, 21 नवम्बर  २१ नवंबर ;  जिले के संजय टाईगर रिजर्व से लापता हुई वयस्क बाघिन टी-30 का 5 बोरों में विच्छेदित शव आज गोपद नदी के हांथीदह में मिला है। कल उसके जले हुये चमड़े, बाल व कालर आई.डी. सिंगरौली जिले के सरई पश्चिम रेंज के बंजारी गांव के समीप जंगल में मिला था। संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूंछताछ के बाद शव कि बरामदगी हुई है।

      टाईगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक वाय.पी. सिंह ने बताया कि बाघिन टी-30, 5 नवम्बर 4:30 शाम तक को मोहन रेंज (कुसमी) के मांच महुआ टावर के समीप ही विश्राम कर रही थी। शाम 6:30 बजे उसकी लोकेशन वहां से तकरीबन 5 कि.मी. दूर सिंगरौली जिले के सरई पश्चिम रेंज के बंजारी गांव के समीप मिली। रात 11:30 के बाद बाघिन का लोकेशन नहीं मिला।

      सेटेलाइट से लोकेशन लेने के पश्चात भी कालर आई.डी. लगी बाघिन की लोकेशन न मिलने पर उसकी आखिरी लोकेशन बंजारी गांव के समीप जंगल में सघन जांच पर एक जगह जले बाल के टुकड़े मिलने पर वन विभाग के खोजी कुत्ते अपोलो कि मदत से कल सुबह एक गड्ढे में चमड़े के छोटे-छोटे टुकड़े व बाल मिले। थोड़ी दूर पर खून से सने जूट के दो बोरे व जली हुई कालर आई.डी. मिली है।

      हिरासत में लिये गये आरोपियों कि निशानदेही पर आज बाघिन का टुकड़ों में विच्छेदित शव बोरों में गोपद नदी में गोताखोरों कि मदत से बरामद किया गया। राष्ट्रीय टाईगर प्राधिकरण के दिशा निर्देशों के तहत शव का पंचनामा बनाकर अवशेषों की  जांच हेतु नमूना हैदराबाद भेजा जा रहा है।

      श्री सिंह ने बताया कि बाघिन को करंट लगाकर मारे जाने के सबूत मिले हैं। बाघिन के शिकार गिरोह में 12 लोग शामिल थे। जंगल से तकरीबन 2 कि.मी. दूर लगे ट्रांसफार्मर से नंगे तार लगाने के लिये खूँटियों के गड्ढे मिले हैं। अन्य आरोपियों की गिरफ़्तारी हेतु वन मण्डल सिंगरौली व जिला पुलिस बल सिंगरौली से भी सहयोग लिया जा रहा है।