बाजार खुलने के पहले संक्रमण का आकडा गिरकर शून्य हुआ।

मयंक शर्मा
खंडवा ३१ मई ;अभी तक;  यह संयोग है कि 1 जून से कोराना  कफर्यू में राहत देने के लिये ग्रापप कार्दसिंस कमेअी की बेठक के पूर्व सोमवार को यह खबर दोड गयी कि खंडवा जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार कम होने के बाद अब सोमवार को यह आंकड़ा शून्य पर पहुंच चुका है।
                       जिला महामारी विशेषज्ञ डा. योगेश शर्मा ने बताया कि  हर स्तर पर प्रयास करने के कारण आठ मई के बाद से संक्रमण कम होने लगा ।पिछले सात दिनों से संक्रमण दर एक फीसद से भी कम रही। 29 मई को 1120 लोगों की जांच में सिर्फ एक संक्रमित मरीज पाया गया था। 30 मई को 1097 लोगों की जांच हुई जिसमें एक मरीज संक्रमित मिला। 31 मई को यह आंकड़ा शून्य पर पहुंच गया। जांच रपट में किसी भी मरीज में संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है। पांच महीने के बाद पहली बार ऐसी स्थिति बनी जब संक्रमण का आंकड़ा शून्य पर पहुंच चुका है। मंगलवार एक जून से बाजार खुलने की तैयारी है। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने किसी भी स्थिति में लापरवाही ना करते हुए गाइडलाइन का पालन करने की अपील लोगों से की है।
                    श्री शर्मा ने बताया कि मार्च 2020 से कोरोना संक्रमण लगातार बना रहा है। अप्रैल के अंतिम सप्ताह तक अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या 300 तक पहुंची। जिसमें संदिग्ध और संक्रमित दोनों ही तरह के मरीज शामिल रहे। इस दौरान आक्सीजन सप्लाई में देरी के कारण व्यवस्थाएं गडबडाई। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मुख्यालय स्तर पर कोविड केयर सेंटर खोले गए जिसमें 5050 बिस्तरों की व्यवस्था की गई।
                उन्होने कहा कि  जिला अस्पताल में स्थित कोविड केयर सेंटर में मरीजों की संख्या नियंत्रित हुई। इसके बाद संक्रमित मरीजों की जल्द पहचान करने के लिए और उन्हें घर पर ही दवाई उपलब्ध कराने के लिए भी लगातार प्रयास जारी रहे। किल कोरोना-3 अभियान के तहत संदिग्ध मरीजों को घर पर ही पांच दिनों की दवा किट बनाकर उपलब्ध कराई गई व क्वारंटाइन भी किया गया। इससे संक्रमण रोकने में मदद मिली।