बारिश शुरू होते ही दलदल बनने लगा बस स्टेंड, कीचड़ भरे मार्ग से आवागमन करने मजबूर घुघरीवासी

10:38 pm or June 19, 2022

प्रहलाद कछवाह

मंडला १९ जून ;अभी तक;  ग्राम पंचायत घुघरी के ग्रामीण विगत कई वर्षो से खराब सड़क और मार्ग में फैले गंदे पानी को लेकर काफी परेशान और नाराज हैं। परेशान इसलिए क्योंकि कीचड़ भरे मार्ग से एक-एक कदम चलना दूभर हो जाता है। चप्पलों से यह कीचड़ उछलकर पूरे कपड़ों को खराब कर देता है और नाराज हैं पंचायत की इन अव्यवस्थाओं के प्रति अनदेखी से। घुघरी तहसील मुख्यायल में बस स्टेंड का निर्माण नहीं हुआ है। जिसके कारण यहां से चलने वाले यात्री वाहन सड़क किनारे खड़े होते है। सैकड़ो गांव के यात्रियों को कोई सुविधा नहीं है। जिसके कारण परेशानी का सामना करना पड़ता है। यहां सुविधाएं उपलब्ध कराने में शासन प्रशासन और ना ही यहां के जनप्रतिनिधि और क्षेत्रीय विधायक का कोई भी ध्यान नहीं है। सुविधाओं के लिए मोहताज घुघरी वासियों में रोष है। अब मानसून सक्रिय होने वाला है, फिलहाल क्षेत्र में हुई थोड़ी सी बारिश के बाद घुघरी बस स्टेंड कीचड़ में तब्दील हो गया। पानी निकासी और बस स्टेंड परिसर निर्माण ना होने के कारण राहगीरों समेत क्षेत्रीय लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। यहां जनप्रतिनिधि और नेता आश्वासन से ही काम चला रहे है, सड़क के नाम पर राजनीति की जा रही है। सब अपना-अपना पल्ला झाड़ते नजर आते है।

                       बता दे कि घुघरी तहसील मुख्यालय बनने के बाद यहां सुविधाएं मुहैया नहीं कराई गई।  जिसके कारण घुघरी का विकास नहीं हो पा रहा है। यहां घुघरी से मंडला जिला मुख्यालय और आसपास के इलाके में जाने वाले यात्री वाहन रूकने के लिए स्टेंड का निर्माण नहीं किया गया है। यहां वाहनोंं को खड़े होने के लिए तक जगह नही है। आने वाले यात्री वाहन सड़क किनारे ही खड़े होते है। स्थान नही होने के कारण यहां अव्यवस्था की स्थिति निर्मित हो जाती है। मुख्य मार्ग में जाम के हालात रहते है। यहां बसों के अलावा अन्य यात्री वाहन भी खड़े होते है। जिससे पैदल राहगीरों को निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ता है।

न्यायालय में है मामला :

                        बताया गया कि घुघरी क्षेत्र में जहां यात्री वाहन समेत अन्य सावारी वाहन खड़े होते है, वह जमीन जनपद के शॉपिंग काम्प्लेक्स की जमीन है। पंचायत द्वारा शॉपिंग काम्लेक्स की जमीन को पहले ही जनपद घुघरी को दे चुकी है। जिसके फर्शीकरण निर्माण के लिए राशि भी स्वीकृत है, लेकिन इसका फर्शीकरण नहीं हो पा रहा है। इस काम्प्लेक्स का मामला हाईकोर्ट में चल रहा है। मामला दुकानों की नीलामी का है। यहां नीलाम हुई दुकानें का आरक्षण के नियम से नहीं होना बताया गया। जिसके कारण तत्कालीन कलेक्टर लोकेश जाटव ने नीलामी को निरस्त कर दिए थे। जिससे मामला कोर्ट में चला गया।

हो  रही उपेक्षा :

शॉपिंग काम्प्लेक्स में फर्शीकरण होने के बाद यहां सभी को परेशानी से निजात मिल जाएगी, लेकिन इस ओर कोई प्रयास नहीं हो रहे है। यहां तक की जनप्रतिनिधि भी ध्यान नहीं दे रहे है। स्थानीय लोगों के द्वारा कई बार बस स्टेंड निर्माण की मांग उठाई गई है, लेकिन कोई लाभ नहीं मिला है। यहां समस्या का निराकरण करने में शासन प्रशासन और जनप्रतिनिधि कोई भी दिलचस्पी नहीं ले रहे है। समस्या से जूझ रहे स्थानीय लोगों में रोष व्याप्त है। स्थानीयजनों ने बताया है कि वर्षो से घुघरी की उपेक्षा प्रशासन के द्वारा की जा रही है। जिले भर में विकास कार्य किये जा रहे है। लेकिन घुघरी का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। जिससे यहां विकास नही हो पा रहा है। क्षेत्र की जनता परेशान है। यहां बस स्टाप और यात्री प्रतिक्षालय निर्माण की मांग की जा रही है।

बस स्टैंड निर्माण के लिए जनपद सदस्य ने दी थी राशि:

घुघरी के शॉपिंग काम्प्लेक्स की जमीन में फर्शीकरण और सौंदर्यीकरण के लिए क्षेत्रीय जनपद सदस्यों ने अपने क्षेत्र के विकास कार्य में आने वाली राशि को जनपद पंचायत घुघरी के बस स्टेंड निर्माण और सौंदर्यीकरण के लिए करीब 30 लाख रूपए और नाली निर्माण के लिए 10 लाख रूपए की राशि अपने मद से जनपद पंचायत घुघरी को दिए है। इस निर्माण कार्य के लिए एजेंसी ग्राम पंचायत घुघरी को बनाया गया है।
लापरवाही से नहीं हो पा रहा निर्माण कार्य :
क्षेत्रीय जनपद सदस्यों ने बताया कि बस स्टेंड के फर्शीकरण, सौंदर्यीकरण व नाली निर्माण के लिए अपने मद से 40 लाख रूपए की राशि जनपद घुघरी को विगत वर्ष ही दे दी गई थी, लेकिन जिला पंचायत के अधिकारी और जनपद पंचायत के अधिकारी लापरवाही बरत रहे है। जिसके कारण अभी तक निर्माण कार्य के लिए स्टीमेट भी तैयार नहीं किया गया है। अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा अब बारिश में आमजन को भुगतना पड़ेगा।  वहीं ग्रामवासियों का कहना है कि घुघरी मुख्यालय क्षेत्रीय विधायक नारायण सिंह पट्टा का गृह ग्राम है, इसके बाद भी घुघरी क्षेत्र का विकास नहीं हो पा रहा है। लोगों में यह चर्चा का विषय है कि जब विधायक अपने गृह ग्राम में रहते है, इसके बावजूद अपने क्षेत्र के कार्य नहीं करा पा रहे है। वहीं लोगों का मानना है कि जब मुख्यालय के बस स्टेंड का जब यह हाल है तो विधानसभा क्षेत्र के क्या हाल होंगे, जिस पर प्रश्न चिन्ह खड़े हो रहे है।

इनका कहना है
बस्ती विकास से मैंने स्वयं 10 लाख रुपए बस स्टैंड घुघरी में कीचड़ को देखते हुए इसकी स्वीकृत कराया था लेकिन न जाने क्षेत्रीय विधायक ने उस राशि का उपयोग कहां पर कर लिया यह समझ से परे है।
शिवराज शाह, पूर्व विधायक

काम्प्लेक्स विवादित है, मामला न्यायालय में चल रहा है। काम्प्लेक्स के फर्शीकरण के लिए व्यापारी समेत वरिष्ठजनों के साथ चर्चा की गई थी, आपसी सहयोग से काम्प्लेक्स का फर्शीकरण कराया जाए। सभी ने सहमति दी लेकिन मामला न्यायालय में होने के कारण आगे कदम नहीं उठाए जा रहे है।
नीरज मरकाम, जिला जनपद सदस्य

बस स्टैंड घुघरी में हमेशा गंदगी का आलम रहता है, बरसात में बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है। कीचड़ इतना हो जाता है कि चलने में बड़ी परेशानी होती है। यहां पर कोई किसी की सुनने वाला नहीं है। इस वर्ष भी लोगों को इसी कीचड़ से होकर गुजरना पड़ेगा।
देवेश पांडे, अधिवक्ता घुघरी

विगत कई वर्षो से घुघरी के लोग बस स्टैंड निर्माण का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन अभी तक बस स्टैंड का निर्माण नहीं हो पाया है। घुघरी में राजनीतिक दल के जनप्रतिनिधि भी मौजूद है, लेकिन कोई ध्यान नहीं दे रहा है, बरसात में बहुत ही कीचड़ हो जाता है।
विजय ठाकुर, स्थानीय निवासी

बस स्टैंड में चारों तरफ हाल में ही हुई थोड़ी सी बारिश से कीचड़ ही कीचड़ हो गया है। दुकान के सामने इतनी गंदगी है कि लोगों को आने-जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पूरा बस स्टैंड शुरुआती बारिश में कीचड़ से भर गया है। यहां पर किसी का ध्यान नहीं है।
संजय साहू, व्यापारी घुघरी
——————————