बालाघाट जिले के तीन लाडली बालिकाएं बाघा बॉर्डर भ्रमण के लिए रवाना, कलेक्टर ने झंडी दिखाकर किया रवाना

2:26 pm or April 30, 2022

आनंद ताम्रकार

बालाघाट ३० अप्रैल ;अभी तक;      महिला एवं बाल विकास विभाग मध्यप्रदेश शासन द्वारा मां तुझे प्रणाम योजना के अंतर्गत लाडली लक्ष्मी बालिकाओं को देश की सीमाओं का भ्रमण कराने का निर्णय लिया गया है। इसी कड़ी में प्रदेश की लाडली लक्ष्मी बालिकाओं को पाकिस्तान से लगी भारत के पंजाब प्रांत की बाघा-हुसैनीवाला सीमा पर भ्रमण के लिए ले जाया जा रहा है। लाडली लक्ष्मी बालिकाओं के इस दल में बालाघाट जिले के 3 बालिकाएं भी शामिल है। आज 30 अप्रैल को इन बालिकाओं को कलेक्ट्रेट कार्यालय से जबलपुर के लिए रवाना किया गया। वहां से जबलपुर संभाग की 31 लाड़ली बालिकायें बाघा-हुसैनीवाला सीमा जायेंगी।

     कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा ने जिले की तीन लाड़ली बालिकाओं को कलेक्ट्रेट कार्यालय में झंडी दिखाकर जबलपुर के लिए रवाना किया। इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती मनीषा लुंबा भी उपस्थित थी। हुसैनीवाला बाघा बॉर्डर भ्रमण के लिए बालाघाट जिले से चयनित की गई तीन बालिकाओं में लालबर्रा विकासखंड से कुमारी पूजा नागेश्वर, किरनापुर विकासखंड से कुमारी हिमांशी रनगिरे एवं नगरीय क्षेत्र बालाघाट से कुमारी शुभिक्षा वासनिक शामिल है। 29 अप्रैल को आये कक्षा 12 वीं के परीक्षा परिणाम में बालिका हिमांशी रनगिरे ने 74 प्रतिशत एवं बालिका पूजा नागेश्वर ने 72 प्रतिशत अंक प्राप्त कर 12 वीं कक्षा पास की है। कलेक्टर डॉ मिश्रा ने इन बालिकाओं को 12 वीं की परीक्षा में सफल होने एवं बाघा सीमा की यात्रा के लिए शुभकामनायें दी।

     मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर प्रदेश में “माँ तुझे प्रणाम” योजना को पुन: शुरू किया गया है। आगामी 2 मई को योजना में 196 लाड़ली लक्ष्मी बालिकाओं को अंतर्राष्ट्रीय सीमा वाघा-हुसैनीवाला (पंजाब) का भ्रमण कराया जाएगा। वर्ष 2013 से प्रदेश में शुरू हुई इस योजना में पहली बार प्रदेश की लाड़ली लक्ष्मी बालिकाएँ वाघा बार्डर जा रही हैं, जो 2 मई को अपरान्ह 3:30 बजे अमृतसर दादर एक्सप्रेस से रवाना होंगी।

     खेल एवं युवा कल्याण विभाग की ‘माँ तुझे प्रणाम’ योजना में भोपाल संभाग से 20 लाड़ली लक्ष्मियाँ, इंदौर संभाग से 31, ग्वालियर संभाग से 15, उज्जैन संभाग से 26, नर्मदापुरम संभाग से 11, शहडोल संभाग से 15, रीवा संभाग से 12, चम्बल संभाग से 9, सागर संभाग से 26, जबलपुर संभाग से 31 बालिकाओं को वाघा-हुसैनीवाला (पंजाब) के भ्रमण पर जायेगी।

     योजना में अब तक लगभग 12 हजार 672 युवाओं को लेह-लद्दाख, कारगिल-द्रास, आर.एस.पुरा, वाघा-हुसैनीवाला, तानोत माता का मंदिर, लोगेंवाल, कोच्चि, बीकानेर, बाड़मेर, नाथूराम-दर्रा, पेट्रापोल, तुरा, जयगाँव, अडंमान निकोबार एवं कन्या कुमारी की अनुभव यात्रा कराई गई है। खेल एवं युवा कल्याण विभाग की इस योजना की चयनित बालिकाओं को गृह निवास यात्रा का किराया, दैनिक भत्ता, आवास, भोजन, स्थानीय यातायात व्यवस्था, रेल आरक्षण व्यवस्था, ट्रेक सूट, टी-शर्ट और किट बैग उपलब्ध कराए जाते हैं।