बालिका आदिवासी छात्रावास कल्दा की बेहतर व्यवस्थाए, कलेक्टर ने की सराहना

10:24 pm or October 18, 2022

दीपक शर्मा

पन्ना १८ अक्टूबर ;अभी तक; जिले के आदिवासी बहुल्य क्षेत्र कल्दा मे लगभग आधा सैकडा छात्रावास आदिवासी बालक बालिकाओं के लिए संचालित किये जा रहे है जिसका उद्देश्य अधिक से अधिक आदिवासी छात्रा-छात्राए शिक्षा ग्रहण कर क्षेत्र का नाम रोशन करें तथा देश एवं प्रदेश मे पन्ना का नाम ऊंचा करें। क्योकि वर्तमान समय मे सबसे अधिक पिछडा क्षेत्र कल्दा ही है। जहां के आदिवासी लोग आज भी शिक्षा की मुख्य धारा से दूर है। इसके लिए स्थानीय शिक्षको तथा जन प्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक अधिकारीयों को तनमयता से कार्य करना होगा।

गत दिवस आदिवासी क्षेत्र कल्दा मे बागेश्वर सरकार की तीन दिवसीय कथा का आयोजन किया गया था जिसमे जिले भर के अधिकारी कल्दा मे उक्त कार्यक्रम मे शामिल हुए थे। इस दौरान कलेक्टर सहित जिले के प्रशासनिक अधिकारीयों द्वारा बालिका आदिवासी छात्रावास कल्दा की व्यवस्थाए देखकर छात्रावास संचालित करने वाली अधीक्षिका पल्लवी चौरसीया की सराहना की तथा कहा कि जिस प्रकार से अधिक्षिका द्वारा कार्य किया जा रहा है। उक्त कार्य सराहनीय है, छात्रावास की सभी प्रकार की व्यवस्थाए अव्वल देखी गई। कलेक्टर संजय मिश्रा, एसडीएम गुनौर भारतीय देवी, एसडीएम शाहनगर रचना शर्मा सहित आदिम जाती संयोजक आर के सतनामी, जिला समन्वयक अरविन्द सिंग गौर सहित सभी अधिकारीयों ने छात्रावास की व्यवस्था को सराहनीय बताया।