बाढ़ में फंसे 500 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया

दीपक कांकर

रायसेन, 29 अगस्त ;अभी तक; जिले में लगातार हो रही बारिस के कारण बाढ़ एवं जलभराव से प्रभावित क्षेत्रों में त्वरित राहत एवं बचाव कार्य किए जा रहे हैं। जिले के बाड़ी, बरेली, औबेदुल्लागंज तथा मण्डीदीप के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से लोगों को जिला प्रशासन की टीमों द्वारा राहत शिविरों में पहुंचाया जा रहा है। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव तथा एसपी श्रीमती मोनिका शुक्ला द्वारा राहत एवं बचाव कार्यो की सतत् निगरानी की जा रही है।

                 बारना डेम तथा बरगी डेम से छोड़े गए पानी एवं निरंतर वर्षा के कारण बरेली के निचले इलाकों में बाढ़ एवं जलभराव की स्थिति निर्मित हुई है। पुलिस और होमगार्ड की टीम द्वारा 200 से अधिक लोगों को सुरक्षित निकालकर स्कूल में बनाए गए राहत शिविरों में पहुंचाया गया। निरंतर हो रही वर्षा को दृष्टिगत रखते हुए निचली बस्तियां खाली कराई जा रही है। बाड़ी-बरेली क्षेत्र के गांवों से बाढ़ की सूचना मिलने पर पुलिस तथा होमगार्ड की रेस्क्यू टीम द्वारा ग्राम चारगांव के 14 व्यक्तियों, ग्राम हरसिली के 09 व्यक्तियों तथा गडरवास 12 व्यक्तियों को नाव के जरिए निकालकर सुरिक्षत स्थान पर पहुंचाया गया है।
                    औबेदुल्लागंज की निचली बस्तियों से 250 लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। बाढ़ प्रभावित ग्राम बीलखेड़ी के 06 व्यक्तियों, पोलाहा के आठ व्यक्तियो और ग्राम टोला के पांच व्यक्तियों को सुरक्षित निकालकर राहत शिविर में पहुंचाया गया है। मण्डीदीप में बाढ़ में फंसे आठ लोगों को निकाला जा रहा है। औबेदुल्लागंज क्षेत्र में राहत कार्य के दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री सुरेन्द्र पटवा भी उपस्थित रहे। सांची जनपद के ग्राम सांचेत में जलभराव की स्थिति उत्पन्न होने पर प्रशासन द्वारा राहत एवं बचाव कार्य किया जा रहा है। अपर कलेक्टर श्री अनिल डामोर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री अमृत मीणा, होमगार्ड कमान्डेन्ट श्रीमती नीलमढ़ी, एसडीएम श्री संजय उपाध्याय तथा एसडीएम श्री अनिल जैन द्वारा बाढ़ एवं जलभराव प्रभावित क्षेत्रों में उपस्थित रहकर राहत एवं बचाव कार्य संचालित किए जा रहे हैं।

राहत शिविरों में स्वास्थ्य परीक्षण

बाढ़ एवं जलभराव प्रभावित क्षेत्रों से सुरक्षित निकालकर राहत शिविरों में रखे गए लोगों का चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। राहत शिविरों में चिकित्सक एवं स्वास्थ्य अमला 24 घण्टे उपलब्ध है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *