बेटे को बचाने को कोशिश में जलकर राख हुई महिला

बरेली (उत्तर प्रदेश) पांच नवम्बर ; उत्तर प्रदेश के बरेली शहर में दीपावली की शाम एक टेंट व्यवसाई के घर और गोदाम में संदिग्ध परिस्थितियों में लगी आग में झुलस कर उसकी पत्नी की मौत हो गयी। दमकल विभाग की दो दर्जन से ज्यादा गाड़ियां लपटें बुझाने में पूरी रात जुटी रही।

पुलिस अधीक्षक (नगर) रवींद्र कुमार ने शुक्रवार को बताया कि किला थाना क्षेत्र के कटरा मानराय (बड़ा बाजार) में कारोबार करने वाले पंकज अरोड़ा का घर गोदाम के ऊपर ही है। बृहस्पतिवार रात दीपावली की धूम के बीच करीब साढ़े आठ बजे अरोड़ा के मकान में अचानक संदिग्ध परिस्थितियों में आग लग गई और देखते ही देखते घर एवं गोदाम आग का गोला बन गया।

उन्होंने बताया कि अरोड़ा उनकी पत्नी अलका और आठ वर्षीय बेटी किसी तरह भागकर बाहर आ गए, जबकि दो वर्ष का बेटा अंदर ही फंस गया। उन्होंने बताया कि इसके बाद अलका उसे बचाने के लिए आग की लपटों में घुस गई, हालांकि बेटे को तो पड़ोसियों ने छत के सहारे बचा लिया लेकिन अलका अंदर ही फंस गयी और जलकर खाक हो गयी। उन्होंने बताया कि उसका कंकाल घर की सीढ़ियों पर मिला।

कुमार ने बताया कि आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है और अलका के अवशेष पोस्टमार्टम लिए भेज दिये गये हैं।

आग इतनी भीषण थी कि भोर होने तक फायर ब्रिगेड की गाड़ियां लपटों पर काबू पाने की जद्दोजहद करती रहीं।