भगवान श्री चित्रगुप्तजी का प्रकट दिवस हर्षोल्लास के साथ मना

6:32 pm or May 12, 2022
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर १२ मई ;अभी तक;  कायस्थ समाज के आराध्य भगवान श्री चित्रगुप्तजी का प्रकट दिवस समाजजनों द्वारा वैशाख मास की शुक्ल सप्तमी को धूमधाम से मनाया गया।
                  दो दिवसीय आयोजन के तहत प्रकट दिवस की पूर्व संध्या को शुभकामना रिसोर्ट पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये गये। भगवान श्री चित्रगुप्तजी की कथा का श्रवण पं. राधेश्याम द्विवेदी ने कराया। सायंकाल भगवान चित्रगुप्त की महाआरती हुई जिसमें  बड़ी संख्या में समाजजनों ने भाग लिया। महाआरती पं. मोहनलाल द्विवेदी ने सम्पन्न करवाई।
              तत्पश्चात् सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हुए जिसमें समाज के बच्चों एवं महिलाओं ने उत्साह के साथ भाग लिया। इस दौरान डांस व गायन प्रस्तुतियां दी गई। उसके बाद समाजजनों हेतु महाप्रसादी का आयोजन हुआ।
                 कार्यक्रम काे संबोधित करते हुए कायस्थ समाज अध्यक्ष विक्रम भटनागर ने सभी को चित्रगुप्त अवतरण दिवस की शुभकामनाएं देते कहा कि भगवान ब्रह्माजी के परिवार के सदस्य, न्याय ब्रह्म भगवान श्री चित्रगुप्तजी कायस्थ समाज के इष्ट देव है इसलिये उनकी जयंती को खासतौर से कायस्थ समाज द्वारा धूमधाम से मनाया जाता है। भगवान का प्रकट उत्सव आगे भी खूब धूमधाम से मनाने का निवेदन किया। आपने समाजजनो ंसे आव्हान किया कि सारा समाज एक दूसरे का सहयोग करे और व्यापार-व्यवसाय को आगे बढ़ाये।
            द्वितीय दिवस चक्रवर्ती कॉलोनी स्टेशन रोड़ स्थित श्री चित्रगुप्त मंदिर पर प्रातःकाल प्रकटोत्सव महाआरती का आयोजन हुआ। जिसमें समाज के महिला, पुरूष व बच्चों ने भाग लेकर धर्मलाभ प्राप्त किया।
               इस अवसर पर पूर्व हाईकोर्ट न्यायाधीश जी.डी. सक्सेना,  ए.के. श्रीवास्तव, ओमप्रकाश श्रीवास्तव, अनुराग सक्सेना, डॉ. सतीशचन्द्र गोड़,  शैलेन्द्र माथुर, ओमप्रकाश गोड़, राजेन्द्र भटनागर, डॉ. डी.के. भटनागर, डॉ. श्रवण कुमार श्रीवास्तव, डी.सी. सक्सेना, दिनेश गोड़, राजेश निगम जूनियर अमिताभ बच्चन, आशुतोष गोड़ (नट्टू), प्रो. आर.पी. श्रीवास्तव, अजय प्रधान, राजेश कुलश्रेष्ठ सहित बड़ी संख्या मंे समाजजन उपस्थित थे। संचालन मोनिका गोड़ व रितिका श्रीवास्तव ने किया एवं आभार विभा सर्वेश्वर सहाय गोड़ ने माना। उक्त जानकारी कायस्थ समाज के वरिष्ठ एवं कार्यकारिणी सदस्य कृष्णकांत श्रीवास्तव ने दी।