भले ही शैक्षणिक संस्थाएं खुल गई है लेकिन अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजने को तैयार नहीं

7:17 pm or September 15, 2021
भले ही शैक्षणिक संस्थाएं खुल गई है लेकिन अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजने को तैयार नहीं

सौरभ तिवारी

होशंगाबाद १५ सितम्बर ;अभी तक;   शासन प्रशासन के निर्देश पर भले ही शैक्षणिक संस्थाएं खुल गई है लेकिन अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजने को तैयार नहीं है। अभिभावकों का मानना है कि बढ़ते कोरोना के बीच बिना वैक्सीन के बच्चों को भेजना समझदारी भरा कदम नहीं हो सकता है।

विदित रहे कि इसी के चलते  स्कूलों में दर्ज  संख्या  से बहुत कम बच्चे स्कूल पहुंच रहे है। बुधवार को संयुक्त संचालक, लोक शिक्षण नर्मदापुरम संभाग होशंगाबाद अरविन्द सिंह के द्वारा जिला मुख्यालय की  शासकीय एसपीएम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय होशंगाबाद सहित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय डोलरिया एवं शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मिसरोद का अकस्मिक निरीक्षण किया गया। इस दौरान जेडी नर्मदापुरम् को शासकीय एसपीएम उमा विद्यालय होशंगाबाद में कुल दर्ज संख्या 320 में से 52 विद्यार्थी उपस्थित, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय डोलरिया में कुल दर्ज 339 दर्ज विद्यार्थीयों में से 146 विद्यार्थी उपस्थित और  शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मिसरोद मे कुल दर्ज संख्या 259 में से 152 बच्चे उपस्थित मिले।

जेडी को एसपीएम संस्था की सभी प्रयोगशाला बंद मिली। शाला में पालक शिक्षक संघ की बैठक में मात्र 05 अभिभावक उपस्थित हुए। शाला में विद्यार्थियों की उपस्थिति न्यूनतम पाई गई। विद्यालय में स्वच्छता की व्यवस्था संतोषप्रद नहीं है। शाला प्रबंधन एवं कार्य विभाजन में शाला की प्राचार्य श्रीमती वसुंधरा सोनकिया की लापरवाही देखी गई। प्राचार्य को इस संबंध मे कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया जा रहा है।

इसी प्रकार शासकीय उच्चतर  माध्यमिक विद्यालय डोलरिया   में पालक शिक्षक संघ की बैठक मे 08 अभिभावक उपस्थित पाये गये । संयुक्त संचालक द्वारा पालकों को बच्चों की शैक्षणिक गुणवत्ता सुधार हेतु मार्गदर्शन दिया गया। विद्यालय मे डेली डायरी का अवलोकन किया गया, ब्रिज कोर्स की पुस्तकों का वितरण कर अध्यापन कार्य कराया जा रहा है।वहीं मिसरोद विद्यालय मे पालक शिक्षक संघ की बैठक मे केवल 03 पालक उपस्थित हुये थे। संस्था मे गंदगी पाई गई संस्था के प्रांगण में पानी भराव पाया गया पानी निकासी की व्यवस्था संस्था के प्राचार्य द्वारा नहीं कराई गई। संस्था की प्रयोगशाला बंद पाई गई। शिक्षकों के द्वारा डेली डायरी का संधारण नहीं किया जा रहा है, इन अव्यवस्थाओं के लिए संस्था के प्रभारी प्राचार्य हुकुम चंद्र भास्कर को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया जा रहा है।