भवन निर्माण अनुमति में नजूल एनओसी अनिवार्य करने के आदेश को निरस्त  कराने के लिए कलेक्टर से मिले पूर्व महापौर शैलेंद्र डागा

अरुण त्रिपाठी

रतलाम, 3 जनवरी ;अभी तक;  शहर में भवन निर्माण अनुमति के लिए नगर निगम द्वारा पिछले दिनों नजूल एनओसी अनिवार्य कर दी गई है, जिससे निर्माण अनुमति चाहने वाले नागरिक परेशान हो रहे है। आमजन की परेशानी को देखते हुए पूर्व महापौर शैलेंद्र डागा ने गत दिवस कलेक्टर एवं निगम प्रशासक श्री कुमार पुरुषोत्तम से मुलाकात की और इस आदेश को निरस्त करने की मांग की। कलेक्टर ने इस संबंध में शीघ्र निर्णय लेने का  आश्वासन दिया है।

इस सबंध में श्री डागा ने बताया कि नगर निगम आयुक्त द्वारा एक आदेश जारी कर नगरीय क्षैत्र की सीमाओं में दी जाने वाली भवन निर्माण अनुमति के लिए नजूल एनओसी अनिवार्य रुप से लिए जाने के  निर्देश जारी किए है। आदेश में नगरीय क्षैत्र में रतलाम विकास प्राधिकरण, नगर तथा ग्राम निवेश विभाग रतलाम से स्वीकृत या अनुमोदित कालोनियो को छोड़कर सभी स्थानों में सभी प्रकार की भवन निर्माण अनुमति के लिए म. प्र भूमि विकास नियम 2012 के  नियम 16(11) के खंड (ख) व (ग) तथा म. प्र. शासन नगरीय विकास एवं आवास विभाग मंत्रालय  के परिपत्र में उल्लेखित प्रावधानों के अनुसार  नजूल विभाग की अनापत्ति प्राप्त किए जाने के उपरांत ही भवन निर्माण अनुमति जारी करने के लिए कहा गया है।

आम जनता की परेशानी से कलेक्टर को अवगत कराया

इस मामले में पूर्व महापौर शैलेंद्र डागा ने कलेक्टर एवं निगम प्रशासक श्री कुमार पुरुषोत्तम से मिले और उन्हे इस आदेश से जनता को हो रही परेशानी से अवगत कराया। श्री डागा ने कहा कि इस निगम से शहर में कई स्थानों पर तकनीकी कारणों से  लोगों को अनुमति ही नहीं मिल पाएगी। श्री डागा ने बताया कि आमजन की समस्या को देखते हुए कलेक्टर श्री  कुमार पुरुषोत्तम ने इस सबंध में शीघ्र निर्णय लेने का आश्वासन दिया है।