भाजपा नेताओं से सांठ-गांठ होने से नही हो रही शराब माफियाओं पर सख्त कार्रवाई, माफियाओं की शरणस्थली बना मल्हारगढ़ विधानसभा क्षेत्र

7:28 pm or September 29, 2021
भाजपा नेताओं से सांठ-गांठ होने से नही हो रही शराब माफियाओं पर सख्त कार्रवाई माफियाओं की शरणस्थली बना मल्हारगढ़ विधानसभा क्षेत्र
महावीर अग्रवाल
मंदसौर / पिपलिया स्टेशन २९ सितम्बर ;अभी तक;  मल्हारगढ़ विधानसभा क्षेत्र में जहरीली शराब से हुई 14 मौतों के बाद भी सरकार शराब माफियाओं पर शिकंजा नही कस पा रही है, माफियाओं के साथ भाजपा नेताओं के सांठ-गांठ होने से उन पर कठोर कार्रवाई नही हो पा रही है। जहरीली शराब से जुड़े लोग आए दिन भाजपा के कार्यक्रमों में मंत्री व भाजपा नेताओं के साथ मंच साझा कर रहे है, यहां तक मंत्रियों के काफिले के साथ भी इन्हें देखा जा सकता है। शासन-प्रशासन माफियाओं के आगे नतमस्तक है। पुलिस कभी इन पर कार्रवाई करने का साहस नही जुटा पा रही है। मल्हारगढ़ विधानसभा क्षेत्र माफियाओं की शरणस्थली बनता जा रहा है।
                   उक्त आरोप प्रदेश कांग्रेस महामंत्री श्यामलाल जोकचन्द्र ने लगाते हुए बताया कि मल्हारगढ़ विधानसभा में बाद शराबकांड में जहरीली शराब पीने से हुई 14 लोगों की मौतों के बाद प्रदेश की भाजपा सरकार ने नई नीति बना दी, लेकिन सरकार की नई नीति बनने के बाद भी स्थानीय स्तर पर भाजपा के बड़े नेताओं से सांठ-गांठ कर फिर अवैध शराब का कारोबार शुरु हो गया। सरकार ने एसआईटी भी गठित की, लेकिन यह समिति भी मात्र दिखावे के लिए ही बनाई गई थी, क्योंकि अभी तक न तो इसमें माफियाओं पर कोई कार्रवाई हुई और न हि जहरीली शराब पीने से मृत लोगों के परिजनों को आर्थिक सहायता मिली। जबकि अतिरिक्त कलेक्टर आरपी वर्मा ने शव रखकर प्रदर्शन कर रहे परिजनों को आश्वासन दिया था कि दो लाख रुपए सम्बल योजना के तहत नकद दिए जाएंगे व 10 लाख रुपए को मुख्यमंत्री को प्रपोजल बनाकर भिजवाने का आश्वासन दिया था, लेकिन अभी तक किसी को एक रुपए की सहायता नही मिली। वहीं जहरीली शराब पीने से तबीयत बिगड़ने वाले लोगों को आयुष्मान योजना का लाभ दिलाने का भी भरोसा दिया था, लेकिन यह लाभ भी किसी को नही मिला। इलाज के दौरान परिजनों के लाखों रुपए खर्च हो गए, जिससे परिवार बर्बाद हो गए है। शराबकांड में भी पुलिस ने कई निर्दोष लोगों को फंसा दिया जबकि मुख्य सरगनाओं पर कोई कार्रवाई नही हुई, इस कारण पुनः अवैध शराब का कारोबार शुरु हो गया। फिर से जगह-जगह शराब मिलने लगी है, भाजपा की सांठ-गांठ के चलते अवैध रुप से फिर धड़ल्ले से बाहर से लाई जा रही शराब बिकना शुरु हो गई है। गांव-गांव में शराब माफिया पैदा हो गए है। जोकचन्द्र ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चोहान, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्रकर लिखकर जहरीली शराब पीने से मृत लोगों के परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान करवाने एवं जहरीली शराब बेचकर लोगों की जान के साथ खिलवाड़ करने वाले माफियाओं पर सख्त कार्रवाई की
————