भाजपा नेता तपन विश्वास के खिलाफ हस्तलिपि खसरे में कूट रचना के आरोप

8:07 pm or November 9, 2021

मयंक भार्गव, बैतूल से

बैतूल ९ नवंबर ;अभी तक;  हस्तलिपि खसरे में पूर्व जिला पंचायत सदस्य एवं चोपना क्षेत्र के भाजपा नेता तपन विश्वास द्वारा कूट रचना कर धोखाधड़ी से भूमि अपने नाम करने का एक गंभीर मामला सामने आया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए घोड़ाडोंगरी विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस विधायक ब्रह्मा भलावी ने मंगलवार को एसपी सिमाला प्रसाद को एक पत्र प्रेषित किया है। गौरतलब है कि इस मामले की शिकायत चोपना निवासी मिथुन पिता विपुल विश्वास द्वारा विधायक ब्रह्मा भलावी से की गई थी। शिकायत के बाद ही यह मामला विधायक के संज्ञान में आया। जिसके बाद विधायक ने एसपी से पत्राचार कर मामले की उच्चस्तरीय जांच करने की मांग की है। बता दें कि इस मामले में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शाखा चोपना के तत्कालीन शाखा प्रबंधक की भूमिका भी संदिग्ध नजर आ रही है।

यूनियन बैंक शाखा प्रबंधक के साथ की थी सांठगांठ

इस मामले के शिकायतकर्ता मिथुन पिता विपुल विश्वास के मुताबिक तपन विश्वास पिता हराधन विश्वास निवासी ग्राम आमडोह थाना चोपना तह घोड़ाडोंगरी जिला बैतूल द्वारा ग्राम चोपना -1 के शासकीय भूमि खसरा क्र. 101 में हस्तलिखित खसरे में कुटरचिता कर भूमि को अपने स्वामित्व का बताकर धोखाधड़ी की गई। शिकायतकर्ता के अनुसार ग्राम चोपना -1 स्थित भूमि खसरा क्रमांक -101 शासकीय भूमि है। उक्त भूमि के हस्तलिखित खसरे पर कुटरचिता कर निजि स्वामित्व की भूमि बताया गया हैं। शासकीय भूमि पर तपन विश्वास पिता हराधन विश्वास के द्वारा अवैध रूप से भवन निर्माण किया जाकर कुटरचित हस्तलिखित खसरे के आधार पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शाखा चोपना के तात्कालिन शाखा प्रबंधक के साथ साठ गाठ कर लिगल डीट सर्च ना कर किराये के लिए अनुबंध कर लिया गया। आवेदक ने शिकायत आवेदन की बिंदुवार जॉच कर तपन विश्वास एवं तत्कालिन शाखा प्रबंधक के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध करने की मांग की है।

अपराध पंजीबद्ध कर कड़ी कार्रवाई की जाए

इस मामले में विधायक ब्रह्मा भलावी का कहना है कि तपन विश्वास के द्वारा शासकीय भूमि को अपनी भूमि बताकर अनुबंध करना, खसरे के दस्तावेज में कुटरचिता करना, धोखाधड़ी से शासकीय जगह पर अवैध रूप से अतिक्रमण कर निर्माण करना गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है। विधायक श्री भलावी ने एसपी से आग्रह किया कि इस मामले में उच्च स्तरीय जांच करवाते हुए ऐसे अपराधियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए।