भिंड जिला चिकित्सालय में अव्यवस्था को लेकर झलक रहा कोरोना संक्रमितो का दर्द

भिंड से डॉक्टर रवि शर्मा
भिंड २ मई ;अभी तक; भिंड जिला चिकित्सालय में विभागों में भर्ती मरीज देखरेख के अभाव में परेशान हो रहे हैं । मरीज अपने परिजनों को कॉल कर अस्पताल के कोर्ट वार्ड में व्याप्त अव्यवस्थाओं के बारे में बता रहे हैं । आलम यह है कि चिकित्सक व स्टाफ नर्स वार्ड में उपलब्ध नहीं है और मरीज के अटेंडरों को जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है । लिहाजा मरीज कुछ नहीं कर रहा पा रहा है
फोन पर बताया कोरोना पीड़ित ने बताया अपना दर्द
70 वर्षीय संतोष गुप्ता पुत्र तुलसीराम उत्तर निवासी लखना हालदार ने 30 अप्रैल की सुबह 10:00 बजे अपने बेटे राजू गुप्ता को कॉल कर बताएं कि उनके वार्ड में जितने मरीज हैं सभी केवल ऑक्सीजन पर जी रहे हैं इसके अलावा किसी प्रकार की देखरेख नहीं है ।
 री मरीजों के कारण बिगड़ी व्यवस्था
पूर्व विधायक मैंने सिंह कुशवाहा ने कहा कि जिले के मरीजों के लिए ही पर्याप्त स्टाफ नहीं है ऐसे में बाहरी जिलों के मरीजों को भर्ती कर के अस्पताल प्रबंधन ने अवस्था को और भी अधिक विकराल कर दिया है उन्होंने बताया कि उनके परिचित इंद्र शर्मा निवासी बिलावल पुरानी बस्ती बैंड का 2 दिन से सिलेंडर नहीं बदला जा रहा है मरीजों को परेशानी लगातार बढ़ रही है वादों के अंदर क्या चल रहा है किसी को कोई जानकारी नहीं स्वास्थ्य अधिकारी जो कह रहे हैं उसे उसे ही सच माना जा रहा है ; करोना  वार्ड के मरीज के पास 24 घंटे कोई भी चिकित्सक या मेडिकल स्टाफ खड़ा नहीं रह सकता ऑक्सीजन 1st नियमित रूप से देखी जा रही है आपसे आकर देख सकते हैं जबकि आज ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई 1 घंटे बंद रही ।१  घंटे बाद मालनपुर से सिलेंडर की गाड़ी आई तब ऑक्सीजन सेवा बहाल हुई इस दौरान भिंड कलेक्टर को सूचना मिलते ही डॉक्टर सतीश कुमार एस वह पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह तत्काल जिला चिकित्सालय पहुंचे और ऑक्सीजन का ट्रक जो रास्ते में था ऑक्सीजन लेकर आ रहा था मालनपुर से उसे जल्दी बुलाया और 1 घंटे बाद ऑक्सीजन मरीजों को मिलने लगी इतने में ही चिकित्सालय में हड़कंप मच गया