भिंड में हाईवे NH-92 पर 20 घंटे लगा जाम:यूपी के उदी मोड़ पर RTO ने लगाई वाहन चेकिंग, चंबल पुल के दोनों ओर फंसे रहे वाहन।

भिण्‍ड से डॉ. रवि शर्मा

भिंड १० नवंबर ;अभी तक; मध्य प्रदेश की भिंड सीमा को उत्तर प्रदेश की इटावा जिले की सीमा से जोड़ने वाला चंबल नदी का पुल इन दिनों क्षतिग्रस्त है। पुल के एक पिलर का बैरिंग टूट गया है। क्षतिग्रस्‍त पुल के हिस्से में मरम्‍मत कार्य होना है। लोक निर्माण विभाग ने स्थिति को भांपते हुए ओवर लोडिड वाहनों से चंबल पुल को खतरा बताया है। इन सबके बावजूद रविवार की शाम साढ़े 8 बजे इटावा आरटीओ ने चेकिंग प्वाइंट लगा दिया। यह चेकिंग उदी मोड यूपी सीमा में गई। इस वजह सोमवार की शाम तक पुल के दोनों ओर लंबा जाम रहा। यह जाम करीब 8 किलोमीटर लंबा नेशनल हाईवे 92 पर 25 घंटे लगा रहा। जाम खुलवाने के लिए फूप पुलिस को पसीना बहाना पड़ा। तब जाकर आवाजाही शुरू हो सकी।

बता दें चंबल पुल को ओवर लोडिड वाहनों से निजात नहीं मिल पा रही है। रेत और गिट‌टी के ओवर लोडिड डंपर, ट्रॉला और ट्रैक्टर हर रोज बढ़ी तादाद में निकल रहे हैं। इस समस्या का निराकरण कराए जाने को लेकर लोक निर्माण विभाग इटावा द्वारा भिंड और इटावा जिला प्रशासन को पत्र लिखकर अगवत कराया जा चुका है। पुल पर ज्यादा देर तक ओवर लोडिड वाहनों का रूका पूरी तरह प्रतिबंधित है। रविवार-सोमवार की रात से इटावा की ओर चंबल पुल के दूसरे हिस्से की तरफ माइनिंग और आरटीओ की चेकिंग की गई। इस वजह से चंबल पुल पर जाम लगना शुरू हो गया। सोमवार की सुबह तक पुल के दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई। इस जाम से सबसे ज्यादा परेशानी बसों में फंसे यात्रियों और निजी चार पहिया वाहन चालकों को हुई। चंबल पुल पर जाम लगने की सूचना मिलते ही फूफ थाना प्रभारी डीडी अनुरागी अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने पुल पर फंसे आड़े तिरछे खड़े वाहनों को सीधा कराने और जाम खुलवाने का प्रयास भी किया, लेकिन यूपी के तरफ से फंसे वाहनों की वजह से जाम खुलवाने में उन्हें सफलता नहीं मिली। इसके बाद भिंड की ओर से यूपी जाने वाले वाहनों को भदाकुर तिराहे होते हुए निकाला गया।

जाम में घंटों फंसे यात्री पैदल निकले

  • रविवार-सोमवार की रात से चंबल पर पुल पर लगा जाम सोमवार की दोपहर तक नहीं खुला। इस वजह से जाम में फंसे चार पहिया वाहन चालक और यात्री भूख-प्यास से परेशान होते रहे। वहीं बसों में सवार कई लोगों ने अपने रिश्तेदारों को भिंड और इटावा की तरफ बुलाकर बस से उतरकर तीन से चार किमी तक पैदल सफर तय किया।

पुलिस को इस तरह करनी पड़ी मेहनत

  • चंबल पुल पर जाम लगने के बाद फूफ पुलिस ने भदाकुर तिराहे पर मोर्चा संभाला। जिससे भिंड की ओर से आने वाले वाहन चालक जाम में न फंसे। इसके बाद भदाकुर तिराहे से वाहन चालक हनुमंत पुरा, चकरनगर, लखना बकेवर होते इटावा-कानपुर हाइवे पर पहुंचे। इस तरह से पुलिस को जाम खुलवाने के लिए पसीना बहाना पड़ा।

मुंबई से सामान आने पर होगा सुधार

चंबल पुल के पिलर नंबर 6 की बेयरिंग क्षतिग्रस्त है। बेयरिंग की मरम्मत के लिए 30 अक्टूबर को चंबल पुल पर सुबह 10 से दोपहर एक बजे तक भारी वाहनों को राेका गया था।, लेकिन प्रेशर मशीन खराब होने की वजह से क्षतिग्रस्त बेयरिंग मशीन को ठीक नहीं किया जा सका। ऐसे में चंबल पुल पर जाम लगने की वजह से हजारों टन वजन लदा हुआ है। ऐसे में हादसे की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। बताया जाता है कि पुल की तकनीकी खराबी को सुधार के लिए मुंबई से सामान लाया जा रहा है।