मकान के मलबे में दो दिनों तक दबे रहे दोनों बहनों के शव, बारिश से भरभराकर गिर गया था कच्चा मकान,

7:21 pm or September 25, 2021
मकान के मलबे में दो दिनों तक दबे रहे दोनों बहनों के शव बारिश से भरभराकर गिर गया था कच्चा मकान,

मयंक भार्गव

बैतूल 25 सितम्बर अभीतक ;  बारिश से एक कच्चा मकान भरभरा गिर गया और इस मकान में दो बहनों की मलबे में दबने से मौत हो गई। दो दिन पूर्व घटी इस घटना का खुलासा शनिवार को उस समय हुआ जब वैक्सीनेशन टीम  वैक्सीन लगाने के लिए घर-घर जाकर दस्तक दे रही थी। वैक्सीनेशन टीम जैसे ही एक मकान में पहुंची और सामने से दरवाजा खटखटाया तो कोई प्रतिक्रिया भीतर से नहीं आई। तभी वैक्सीन टीम ने खिड़की से झांककर घर के भीतर देखा तो मकान का हिस्सा गिरा हुआ था और उसमें दोनों बहनों के शव दबे हुए थे। तत्काल ही इसकी सूचना बोरदेही पुलिस को दी गई जिसके बाद बोरदेही पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से शव बाहर निकाले। यह घटना जिला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर दूर बोरदेही थाने के अंतर्गत आने वाले ग्राम कुजबा में घटित हुई। घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर बोरदेही थाना प्रभारी अनुराग प्रकाश, नायब तहसीलदार सृष्टि डहेरिया राजस्व टीम के साथ मौके पर पहुंची और निरीक्षण किया।

दोनों बहनों की हुई मौत

              बोरदेही थाना प्रभारी अनुराग प्रकाश ने बताया कि ग्राम कुजबा में बारिश होने से कौशल्या बाई (35) वर्ष और पंचफूला बाई (40)चिल्हाटे जिस मकान में रहती थी उस मकान का सामने का हिस्सा छोड़कर पूरा मकान बारिश से भरभराकर गिर गया। मकान के मलबे में दोनों बहनों कौशल्याबाई और पंचफूलाबाई चिल्हाटे दब गई जिससे दोनों ही मलबे में दबने से मौत हो गई। श्री प्रकाश के मुताबिक घटित संभवत: दो दिन पूर्व घटित हुई होगी।

वैक्सीनेशन टीम ने किया खुलासा

यह भी संभव है कि अगर वैक्सीनेशन टीम इस घर में जाकर दस्तक नहीं देती तो दोनों बहनों की मौत होने की खबर भी शायद नहीं मिल पाती। क्योंकि दोनों बहनें जिस मकान में रहती हैं वह गांव से थोड़ा अलग है। वैक्सीनेशन टीम ने सामने के दरवाजे की कुंडी बजाई और कोई प्रतिक्रिया भीतर से नहीं मिलने पर टीम के सदस्यों ने घर के भीतर झांककर देखा तब कहीं जाकर यह खुलासा हुआ कि दोनों बहनों के शव मलबे में दबी पड़े हुए हैं।
ग्रामीणों की मदद से निकाले शव
बोरदेही थाना प्रभारी अनुराग प्रकाश ने बताया कि वैक्सीनेशन टीम और ग्रामीणों द्वारा सूचना देने पर पुलिस तत्काल प्रभाव से घटना पर पहुंची और ग्रामीणों की मदद से दोनों बहनों के मलबे में दबे हुए शव बाहर निकाले। श्री प्रकाश ने बताया कि प्रथम दृष्टया घटना करीब दो दिन पुरानी प्रतीत हो रही है। तेज बारिश के चलते मकान का वह हिस्सा जहां दोनों बहनें थी वह गिर गया जिसके मलबे में दबने से दोनों की मौत हो गई। बहरहाल पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना प्रारंभ कर दी है।
वैक्सीनेशन टीम में यह थे मौजूद
गांव-गांव में लोगों को वैश्विक महामारी से बचाने के लिए किए जा रहे वैक्सीनेशन अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर पहुंचकर लोगों को टीका लगाने का काम कर रही है। ग्राम कुजबा में पहुंची वैक्सीनेशन टीम में शामिल स्वास्थ्य विभाग की एएनएम कल्पना आंवलेकर, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता गुरवती पंडोले, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता प्रीति ठाकरे, आंगनवाड़ी सहायिका विमला पंडोले, आशा कार्यकर्ता प्रमिला चिल्हाटे ने दोनों बहनों के घर का दरवाजा खटखटाया और कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली तो इस टीम ने ही पुलिस को घटना की सूचना दी थी।