मध्यप्रदेश के साढ़े चार लाख हितग्राही अपने आवास गृहों में करेंगे प्रवेश

9:05 pm or October 17, 2022

भोपाल १७ अक्टूबर ;अभी तक; मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है प्रधानमंत्री आवास योजना में प्रदेश के 4 लाख 50 हजार हितग्राहियों को दीपावली पर अपना घरौंदा मिल रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी हितग्राहियों को वर्चुअल गृह प्रवेश करवाएंगे। गृह प्रवेशम का मुख्य कार्यक्रम सतना स्थित बीटीआई मैदान में होगा, जहाँ मुख्यमंत्री श्री चौहान उपस्थित रहेंगे। ग्राम स्तर तक लोगों को कार्यक्रम से जोड़ने के लिए तैयारियाँ की जा रही हैं। जन-प्रतिनिधियों और ग्रामीणों की उपस्थिति में जिला, जनपद और ग्राम पंचायत में हितग्राहियों को गृह प्रवेश कराया जायेगा। इसका प्रसारण भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पहले प्रदेश में हर महीने 20 से 25 हजार आवास गृह बन कर तैयार होते थे और अब हर महीने लगभग एक लाख आवास गृह बन रहे हैं। योजना के लिए 10 हजार करोड़ रूपए की वित्त व्यवस्था की गई है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज 22 अक्टूबर को हो रहे गृह प्रवेशम कार्यक्रम की तैयारियों की मंत्रालय में एक बैठक लेकर जानकारी ली। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सभी कलेक्टर्स भी बैठक से जुड़े। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री उमाकांत उमराव और प्रमुख सचिव जनसम्पर्क श्री राघवेंद्र कुमार सिंह उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गृह प्रवेशम दीप पर्व पर हो रहा है। गृह प्रवेश को यादगार बनाया जाए। लाभान्वित हितग्राही घरों में रंगोली बनाएँ, दीप जलाएँ। जिला, जनपद,ग्राम स्तर सभी जगह हितग्राही कार्यक्रम आयोजित हों। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी कुछ हितग्राहियों से चर्चा भी कर सकते हैं। कार्यक्रम से अधिक से अधिक ग्रामवासियों को जोड़ने का प्रयास किया जाए। ग्रामों में डोंडी पिटवा कर ग्रामीण भाई- बहनों को कार्यक्रम का प्रसारण देखने के लिए आमंत्रित किया जाए।

प्रभारी मंत्री करें तैयारी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कार्यक्रम से अधिक से अधिक नागरिकों को जोड़ने के लिए उत्साह का वातावरण बनाये। जिलों के प्रभारी मंत्री सोशल मीडिया द्वारा कार्यक्रम के विभिन्न आयाम का प्रचार भी सुनिश्चित करें। दीनदयाल समिति के सदस्य, सामाजिक कार्यकर्ता और जन-प्रतिनिधियों से कार्यक्रम से जुड़ने का आग्रह किया जाए।

मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना

प्रधानमंत्री आवास योजना 1 अप्रैल 2016 से प्रारंभ हुई है। केन्द्र सरकार द्वारा योजना में मध्यप्रदेश को 38 लाख 38 हजार आवास गृह बनाने के लक्ष्य के निर्धारित था, जिसमें से 38 लाख आवास गृह स्वीकृत किए जा चुके हैं, जो लक्ष्य का 99 प्रतिशत है। प्रदेश में पूर्ण आवासों की संख्या 29 लाख है जो 76.4 प्रतिशत है। वित्त वर्ष 2022-23 में योजना पर 9039 करोड़ की राशि व्यय की जा चुकी है। योजना में नवाचार करते हुए 51 हजार राजमिस्त्री प्रशिक्षित किए गए। इनमें 9 हजार महिला राजमिस्त्री भी शामिल हैं।

इसके अलावा प्रदेश के 9 जिलों के 37 स्व-सहायता समूहों के 324 सदस्यों ने फ्लाय ऐश ब्रिक्स का निर्माण भी किया है। समूहों के सदस्यों को बैंक ऋण से सेंटरिंग संबंधी सहयोग मिला है। हितग्राहियों को मकान बनाने के लिए रेत, लोहा, ईंट, गिट्टी, लकड़ी आदि किफायती दरों पर दिलवाने के लिए आवास सामग्री एप बनाया गया। योजना में 20 लाख से अधिक हितग्राहियों को मनरेगा और अन्य योजनाओं से कन्वर्जेन्स कर लाभान्वित किया गया।

मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान की गतिविधियाँ जारी रहें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉफ्रेंस से प्रदेश के सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के जन्म-दिवस 17 सितम्बर से प्रारंभ हुए मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान की गतिविधियों को जारी रखें। अब तक करीब 52 लाख लाभार्थी अभियान से जुड़ चुके हैं। आगामी 31 अक्टूबर तक अभियान के कार्यों को निरंतर रखा जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विभिन्न योजनाओं का लाभ लोगों को मिले, इस दृष्टि से अभियान में प्रत्येक स्तर के अधिकारी –कर्मचारी सक्रिय भूमिका का निर्वहन करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि अवैध रूप से संचालित नशीले पदार्थों के उपयोग और व्यापार की सूचना मिलते ही ऐसे तत्वों पर प्रहार करने की कार्यवाही की जाए।