मप्र हाई कोर्ट ने खंडवा के पूर्व व वर्तमान कलेक्‍टर को किया तलब, दोनों के खिलाफ अवमानना के आरोप तय

5:31 pm or May 8, 2022
।मयंक शर्मा

खंडवा ८ मई ;अभी तक;  मध्य प्रदेश हाई कोर्ट पूर्व व वर्तमान कलेक्टर के खिलाफ तय करेगा अवमानना के आरोप । जिले की ज्योंतिर्लि नगरी ओंकारेश्वर /मांधाता पर्वत पर अतिक्रमण  के मामले में मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने खंडवा के पूर्व और वर्तमान कलेक्टर को तलब किया है। दोनों के खिलाफ अवमानना के आरोप तय अगले सप्‍ताह होगी सुनवाई।

                   बुधवार को सुनवाई के दौरान राज्य सरकार की ओर से दो साल के लंबे अंतराल के बाद अवमानना याचिका पर सुनवाई की दलील दी गई, जिसे हाईकोर्ट ने असंगत दलीलें करार देते हुए सख्त दिशा-निर्देश जारी किए।
                 उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रवि मलीमठ और न्यायमूर्ति पुरुषेंद्र कुमार कौरव की युगल  पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए रखा गया था। इस दौरान अवमानना याचिकाकर्ता इंदौर निवासी विजय कुमार खंडेलवाल ने बताया कि उपकी ओर से अधिवक्ता डीके त्रिपाठी पेश हुए,। उनका तर्क था कि ओंकारेश्वर मांधाता पर्वत और अवैध निर्माण व अतिक्रमण मनमाने ढंग से किया गया। इसके खिलाफ पहले एक जनहित याचिका दायर की गई थी। हाईकोर्ट ने मामले को गंभीरता से लेते हुए कलेक्टर को अतिक्रमण व अवैध निर्माण को हटाने का निर्देश दिया था, साथ ही सरकारी जमीन के दुरूपयोग पर जुर्माना लगाने की भी व्यवस्था की गई। इस आदेश का पालन करने के बजाय अपील दायर की गई, जिसे खारिज कर दिया गया।

न्यायालय ने ओंकारेश्वर मांधाता पर्वत  पर अतिक्रमण  के मामले में अपने आदेश की अवज्ञा के रवैये को गंभीरता से लिया है।  मामले में एक सप्ताह बाद सुनवाई की तिथि निर्धारित की गई है। इस दिन पूर्व कलेक्टर तन्वी सुंदरियाल  और वर्तमान कलेक्टर अनूप कुमार को उनकी उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।

            श्री खंडेलवाल ने बताया कि अपील के साथ मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, वहां से भी कोई राहत नहीं मिली। इसके बाद भी अतिक्रमणकारियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है। अवमानना याचिका 2019 में दायर की गई थी। जनवरी 2020 में कलेक्टर द्वारा अवमानना नोटिस का जवाब देने के लिए तीन सप्ताह का समय लिया गया था, लेकिन जवाब अभी भी प्रस्तुत नहीं किया गया था।