महाराष्ट्र राज्य के परभणी में बंधक बनाकर रखे गए 6 श्रमिकों को छुड़ाया गया 

6:42 pm or January 14, 2023

आनंद ताम्रकार

बालाघाट (म.प्र.)  १४ जनवरी ;अभी तक;

     बालाघाट जिले के ग्राम सोनखार के 6 श्रमिकों को लगभग 3 माह पूर्व गन्ना कटाई के लिए महाराष्ट्र राज्य के परभणी ले जाया गया था। इन श्रमिकों को वहां पर बंधक बनाकर रखा गया था और उन्हें वापस नहीं आने दिया जा रहा था। इन मजदूरों से वहां पर गन्ना कटाई का काम कराया जा रहा था लेकिन उन्हें मजदूरी का भुगतान नहीं किया जा रहा था। वह मजदूर अपने गांव वापस आना चाहते थे लेकिन उन्हें वापस नहीं आने दिया जा रहा था।
                         यह जानकारी जब मध्य प्रदेश शासन के आयुष एवं जल संसाधन राज्यमंत्री श्री राम किशोर नानो कावरे  तक पहुंची तो उन्होंने जिला प्रशासन को इस संबंध में कार्रवाई करने के लिए कहा था। इस पर कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा ने श्रम  निरीक्षकों को ग्राम सोनखार भिजवा कर मामले की तस्दीक कराई और जब पुख्ता प्रमाण मिल गया कि ग्राम सोनखार के ही श्रमिकों को परभणी में बंधक बनाकर रखा गया है तो उन्होंने वहां के जिला प्रशासन से संपर्क कर बंधक श्रमिकों को मुक्त कराने के लिए कार्रवाई करने कहा।
                           दो दिन पूर्व बालाघाट से एक टीम बनाकर इन श्रमिकों को वापस लाने के लिए बस से परभणी रवाना किया गया था। परभणी जिला प्रशासन ने बालाघाट की टीम को सहयोग कर इन सैनिकों को मुक्त कराया और बंधक बनाकर रखने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध श्रम कानून के तहत एफ आई आर दर्ज कराई है। आज यह श्रमिक बालाघाट पहुंच गए हैं।
                              बालाघाट पहुंचने पर इन श्रमिकों का जिला चिकित्सालय में स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया है और उन्हें श्रम कानूनों के साथ 30-30 हजार रुपये की सहायता राशि प्रदान की गई है। सर्किट हाउस बालाघाट में मध्य प्रदेश पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग के अध्यक्ष एवं विधायक श्री गौरीशंकर बिसेन द्वारा पूर्व विधायक श्री रमेश भटेरे, कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा, एसडीएम श्री संदीप सिंह एवं श्रम पदाधिकारी सुश्री दामिनी सिंह की मौजूदगी में इन श्रमिकों को सहायता राशि प्रदान की गई है । इन श्रमिकों को बस से उनके गांव सोनखार तक पहुंचाने की व्यवस्था की गई है।
                              जिन 06 श्रमिकों को मुक्त कराकर परभणी से लाया गया है उनमें पार्वती भलावी, प्रीति भलावी, ज्योति भलावी, सुनील मरकाम, लक्ष्मण धुर्वे और विनोद मड़ावी शामिल है । इन श्रमिकों को परभणी से लाने के लिए गई टीम में श्रम निरीक्षक श्री आशुतोष दुबे, राजस्व निरीक्षक श्री अशोक अड़मे, पुलिस के सहायक उपनिरीक्षक श्री कपूरचंद बिसेन, आरक्षक मुकेश उईके और महिला आरक्षक सुश्री रागिनी भलावी शामिल थी।