मानव सेवा के विविध प्रकल्पों के साथ सेवा बैंक का 1710 दिनों का सफर, जारी रहेंगे सेवा के ये सोपान

6:27 pm or July 29, 2022
महावीर अग्रवाल
मंदसौर २९ जुलाई ;अभी तक;  नगर में सेवा बैंक के माध्यम से मानवसेवा के जो प्रकल्प चलाए जा रहे हैं उनका लाभ जरूरतमंद लोग लगातार ले रहे हैं। सेवा बैंक को  1710 दिन पूरे हो गए। मंदसौर शहर में कोई भूखा ना सोए, कोई नंगे पांव में ना घूमे, बारिश में गरीब भिक्षावृत्ति करने वाले जरूरतमंद बिना छतरी बरसाती के ना घूमे, इन्हीं संकल्पों के साथ ये सभी सेवा प्रकल्प निरन्तर संचालित किये जा रहे हैं। सेवा बैंक ने 25 किलो आटे की बाटिया बंदरों के लिए बना कर वितरित की गई।
                   सेवा बैंक के संस्थापक सुनील बंसल ने बताया कि ये सारे सेवा प्रकल्प सेवा बैंक के माध्यम से प्रभु इच्छा से जन सहयोग से संपन्न होते हैं आंधी हो या तूफान या कोरोना का कहर हो अथवा मंदसौर बंद हो सेवा बैंक का काम निरंतर आप सभी की शुभकामनाओं से चलता है। यह कभी बन्द नहीं होता। उन्होंने नगर व अंचल वासियों से आग्रह किया है कि शादी की सालगिरह हो या जन्मदिन अथवा प्रियजनों की पुण्यतिथि और अन्य  कोई प्रसंग हो, आगे आएं व  सेवा बैंक के माध्यम से जरूरतमंदों की मदद कर सकते हैं या किसी आयोजन में बचा हुआ भोजन हो, घर पर बचा हुआ भोजन हो तो भी हम से संपर्क कर सकते हैं।
                       श्री बंसल ने बताया कि स्व. मणीदेवी बंसल ट्रस्ट के सौजन्य से 150 छाते वितरण का लक्ष्य रखा था पहले चरण में 50 छाते, दूसरे चरण में 50 छाते फिर दिए और आवश्यकता के अनुसार 50 छाते और जरूरतमंदों में दिए जाएंगे। छातों का वितरण समाजसेवी के हाथो से वितरित कराए गए है जिसमें सर्व श्री अजीत मारू, अरुण शर्मा, हिम्मत लोढ़ा, संजय सिंहल, गोपाल मंडोवरा, दिलीप पन्डित, अनूप बाल्दी, सुनील डबकरा, संदीप सेठिया, विकास बसेर, दिलीप चौहान, नटवर पारीख, शीतलसिंह बही पारसनाथ, पत्रकार ओंकार सिंह, एहसान भाई, आशीष, विशाल चौहान, निसार भाई श्रीमती डबकरा, सलभ बंसल, ब्रजेश गोयल आदि लोगों के हाथों से वितरण किये।