मानसिक रोग पीड़ित महिलास्वस्थ बालिका को जन्म देने के बाद अब ठीक, पति के पास जाने की लगाई गुहार

मयंक शर्मा
खंडवा एक सितम्बर ;अभी तक;  लाचार और पीड़ित लोगों की सेवा के क्षेत्र मेें  लगभग आठ माह र्से पश्चिम बंगाल की एक मानसिक रूप से पीड़ित महिला जूही उम्र लगभग 27 वर्ष खंडवा रेलवे स्टेशन पर अपनी एक वर्ष की बालिका के साथ घूम रही थी। जीआरपी पुलिस ने इस महिला से पूछताछ में कोई जानकारी नहीं दे पाई। पुलिस प्रशासन द्वारा मानसिक रूप से पीड़ित महिला को वन स्टाप सेंटर भेजा गया जहां पर महिला की काउंसलिंग की गई लेकिन वह मानसिक संतुलन ठीक न होने से कुछ भी बता नहीं पा रही थी।
                     वन स्टाप सेंटर में कुछ दिन रखने के बाद उसे नगर के गणेश तलाई स्थित मां स्वधारगृह भेज दिया गया। संस्था की संचालिका अनीता सिंह ने बताया कि  वन स्टाप द्वारा मानसिक रूप से पीड़ित महिला को उच्च इलाज के लिए इंदौरबाणगंगा हास्पिटल पहुंचाया गया। वहा इलाज के बाद उसे स्वस्थ किया। इलाज के दौरान बताया गया कि महिला गर्भवती भी है। छह माह के इलाज के उपरांतअस्पताल प्रबंधन ने स्वस्थ हुई महिला को खंडवा वन स्टाप सेंटर लोटा दिया। जहां से वह फिर मां स्वधारगृह गणेशगंज भेज दी गयी। 20 अगस्त को उसके पेट में तकलीफ होने के कारण  काउंसलर स्वप्निल जैन द्वारा खंडवा के महिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। अगले दिन 21 अगस्त को उसने स्वस्था बालिका को जन्म दिया।  बुधवार को डिस्चार्ज किया गया।
                  समाजसेवी सुनील जैन ने बताया कि जूही को अस्पताल से डिस्चार्ज  होने पर उसने लोगों के साथ चर्चा करते हुए अपने ससुराल व मायके की संपूर्ण जानकारी एवं टेलीफोन नंबर तक भी बताए। उसने बताया उसकी दो बालिकाएं हैं। मैं मेरे पति के पास जाना चाहती हूं। पति से संपर्क कर उनसे कहा कि  आपकी बेटियां आपका इंतजार कर रही हैं आकर इन्हें ले जाएं।
              महिला ने मीडिया से कहा कि अब वह ैं मानसिक रूप ठीक व स्वस्थ है। मेरा पति यदि मुझे नहीं रखेगा तो मैं भरण-पोषण का केस दर्ज करवाउंगी  खंडवा जैसे आश्रम में रहकर अपना जीवन-यापन कर बच्चों की परवरिश करूंगी।
               श्री जैन ने कहा कि महिला के परिजनों से सतत संपर्क में हैं और खंडवा पुलिस अधीक्षक के माध्यम से पुना के पुलिस अधीक्षक से चर्चायें चल रही है। जल्द ही महिला को उनके पति जो कि पूना में इलेक्ट्रीक का कार्य करते है उन तक पहुंचा दिया जाएगा।