मानस अन्त्याक्षरी पुस्तक का प्रकाशन

महावीर अग्रवाल

मन्दसौर २५ सितम्बर ;अभी तक; धर्मदर्शन के विद्वान एवं रामकथा साहित्य के अध्येता पं. रामगोपाल शर्मा ’’बाल’’ द्वारा रचित मानस अन्त्याक्षरी पुस्तक का प्रकाशन हुआ है। इसका पुरोवाक् सुप्रसिद्ध विद्वान महर्षि पाणिनिं संस्कृत विश्वविद्यालय उज्जैन के पूर्व कुलपति डॉ.मोहन गुप्त ने लिखा है। भारत के सुप्रसिद्ध संत जूनापीठाधीश्वर महामण्डलेश्वर आचार्य स्वामी श्री अवधेशानन्दजी गिरी हरिद्वार ने इस पुस्तक का आशीर्वचन लिखा है। आध्यात्मिक चेतना अभियान मंदसौर के परामर्शदाता श्री प्रकाश रातडिया का शुभकामना सन्देश पुस्तक में प्रकाशित हुआ है।
                   पुस्तक का प्रकाशन ब्रिटेन के मेनचेस्टर स्थित गीता मंदिर के अधिष्ठाता आचार्य श्यामसुन्दर शर्मा शास्त्री एवं श्रीमती मीनाक्षी शर्मा ने किया है। गोस्वामी तुलसीदासजी द्वारा रचित रामचरित मानस ग्रंथ पर आधारित इस अन्त्याक्षरी पुस्तक मे क्रमबद्ध रूप से अन्त्याक्षरी स्वरूप में प्रस्तुति की गई है। पुस्तक अत्यंत ही सुन्दर और शुद्ध स्वरूप में प्रकाशित हुई है जिसका मुद्रण ग्लोबल मन्दसौर के श्री घनश्याम पोरवाल द्वारा किया गया है। इस विशिष्ट उपलब्धी पर आध्यात्मिक चेतना अभियान मन्दसौर, हिन्दी साहित्य संस्थान, श्री ऋषियानंद आश्रम ट्रस्ट, श्री अवधेशानंद आश्रम ट्रस्ट एवं संस्थाओं एवं गणमान्य नागरिकों ने श्री शर्मा को बधाई दी है।

 


Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *