मारपीट करने वाले आरोपीगण को न्‍यायालय उठने तक की सजा

विधिक संवाददाता 

सीहोर २५ अक्टूबर ;अभी तक;  न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी आयुषी गुप्‍ता आष्‍टा, जिला-सीहोर द्वारा अभियुक्‍तगण लीलाधर पिता लक्ष्‍मीनारायण, धर्म उर्फ धर्मेन्‍द पिता लीलाधर नि. कालियाखेडी तह. आष्‍टा जिला-सीहोर को धारा 323, 34 भादवि के अंतर्गत न्‍यायालय उठने तक के कारावास व अर्थदण्‍ड से दण्डित किया गया।

सहायक जिला अभियोजन अधिकारी, रानी जैन द्वारा बताया गया कि फरियादिया के द्वारा थाना में आकर रिपोर्ट किया कि घटना दिनांक 24/04/2017 फरियादी जब पानी की पाइपलाइन डालने हेतु जे.सी.बी. से खुदाई कर रहा था तब आरोपी लीलाधर की पानी की पाइपलाइन टूट गई जिसे तुरंत सही कर दिया था किन्‍तु उसी रात्रि करीबन 10.30 बजे अभियुक्‍तगण लीलाधर व धमेन्‍द्र फरियादी के खेत पर आए और फरियादी को गंदी-गंदी गालियां देने लगे जब फरियादी द्वारा गाली देने से मना किया गया तो अभियुक्‍त लीलाधर ने फरियादी को डण्‍डे से पीठ पर मारा व आरोपी धमेन्‍द्र ने डण्‍डे से मुंह में मारा जिससे फरियादी को चोट आई। उक्त घटना की प्रथम सूचना रिपोर्ट थाना आष्‍टा में दर्ज कराई थी जिस पर अपराध क्रमांक 339/17 धारा 323, 294, 506, 34 भादवि में पंजीबद्ध कर विवेचना उपरांत अभियोग-पत्र माननीय न्‍यायालय के समक्ष प्रस्‍तुत किया गया।

माननीय न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी आयुषी गुप्‍ता, आष्‍टा, जिला-सीहोर द्वारा अभियोजन की ओर से प्रस्‍तुत साक्षीगण की साक्ष्‍य एवं दस्‍तावेजों को विश्‍वसनीय मानते हुए अभियुक्‍तगण लीलाधर, धर्म उर्फ धर्मेन्‍द्र नि. कालियाखेड़ी तह. आष्‍टा जिला-सीहोर को धारा 323 भादवि के आरोप में प्रत्‍येक को न्‍यायालय उठने तक की सजा व 500-500 रूपये/– अर्थदण्‍ड से दण्डित किया गया।

शासन की ओर से पैरवी रानी जैन, सहायक जिला अभियोजन अधिकारी तह. आष्‍टा, सीहोर द्वारा की गई।