मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में अपात्रों को अवैध रूप से योजना का लाभ दिए जाने पर दो निलंबित

3:01 pm or June 13, 2022
आशुतोष पुरोहित
खरगोन १३  जून  ;अभी तक;  मध्य प्रदेश के खरगोन जिले में ‘मुख्यमंत्री कन्यादान योजना’ के तहत हुए विवाहों में अपात्रों को योजना का लाभ दिए जाने के मामले की जांच के बाद आज दो कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है।
 आधिकारिक जानकारी के अनुसार अवैध रूप से राशि लेकर अपात्र लोगों को पात्र बनाकर योजना का लाभ दिए जाने की शिकायत की जांच के उपरांत शासकीय हाई स्कूल कदवाली के शिक्षक रोहित मनागरे और माण्डवखेड़ा ग्राम पंचायत के सचिव माल सिंह बर्डे को निलंबित कर दिया गया है। इसके अलावा सात अन्य लोगों के विरुद्ध तथ्य पाए गए हैं, और विधि सम्मत कार्रवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।
जिला कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना को लेकर सीएम हेल्पलाइन तथा अन्य माध्यमों से प्राप्त शिकायत के आधार पर डिप्टी कलेक्टर ओम नारायण सिंह और नगर पालिका की सीएमओ प्रियंका पटेल को जांच करने के निर्देश दिए गए थे। गहन जांच में पाया गया कि जिले में संपन्न इन विवाह समारोह में शासकीय और अशासकीय लोगों ने कुछ अपात्र लोगों से भी राशि लेकर उन्हें योजना का लाभ दिलाया।
जांचकर्ता अधिकारी द्वय ने बताया कि प्रतिवेदन खरगोन पुलिस अधीक्षक को भी सौंपा गया है जिसके आधार पर दोनों निलंबित शासकीय कर्मियों तथा अन्य सात लोगों के विरुद्ध विधि सम्मत कार्यवाही की जाएगी।
उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत 5 मई से 21 मई के बीच खरगोन जिले के बड़वाह, कसरावद, भगवानपुरा, महेश्वर, गोगावा और खरगोन में 531 जोड़ों की शादी कराई गई थी और 892 जोड़ों का विवाह प्रस्तावित है।