मुख्यमंत्री कन्यादान विवाह योजना में कथित भ्र्ष्टाचार की जांच के आदेश, जाॅच मे दोषी पर होगी एफआईआर 

5:59 pm or June 1, 2022
आशुतोष पुरोहित
खरगोन 1 जून  ;अभी तक;  मध्य-प्रदेश के खरगोन के जिला कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने सीएम हेल्पलाइन तथा अन्य माध्यमों से प्राप्त शिकायतों के आधार पर मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में कथित तौर पर सामाजिक कार्यकर्ताओं और शासकीय कर्मियों की संलिप्तता व भ्रष्टाचार के जांच के आदेश दिए हैं।
आज जारी आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक जिला कलेक्टर ने सीएम हेल्पलाइन और अन्य माध्यमों के हवाले से मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में कतिपय सामाजिक कार्यकर्ताओं व शासकीय कर्मियों द्वारा अपात्रों के सामूहिक विवाह में कथित तौर पर राशि लेकर रजिस्ट्रेशन कराने की वृहद शिकायतों को लेकर संयुक्त कलेक्टर ओम नारायण सिंह और नगर पालिका की सीएमओ प्रियंका पटेल को संयुक्त रूप से अधिकृत कर जांच के आदेश दिए गये हैं।
 शिकायतों के मुताबिक दो से पांच पांच हजार रु की राशि लेकर अपात्र युवक और युवतियों का नाम सामूहिक विवाह में रजिस्ट्रेशन कराया गया है और इसके लिए कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं और शासकीय कर्मियों की भूमिका होने की भी बात सामने आई है।
उन्होंने बताया कि शिकायत सत्य पाए जाने पर प्रशासन एफ आई आर दर्ज कराएगा।
जांचकर्ता अधिकारी ओम नारायण सिंह ने बताया कि जिले के बड़वाह, कसरावद ,भगवानपुरा, महेश्वर, गोगावा और खरगोन में 5 मई से 21 मई के दरमियान 531 जोड़ों का विवाह इस योजना के तहत संपन्न हुआ है और 892 जोड़ों का विवाह प्रस्तावित है।
उन्होंने कहा कि संयुक्त जांच दल शीघ्र ही अपनी रिपोर्ट जिला कलेक्टर को प्रस्तुत करेगा।