मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना, जिले के 10 और अनाथ बच्चों को स्वीकृत हुई सहायता राशि

आनंद ताम्रकार
 बालाघाट ८ जून ;अभी तक

ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता की कोविड-19 के कारण आकस्मिक मृत्यु हो गई है और वे बच्चे अनाथ हो गये है, तो ऐसे बच्चों को आर्थिक, खाद्य एवं शिक्षा सहायता देने के लिए मध्यप्रदेश शासन द्वारा मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना प्रारंभ की है। इस योजना के अंतर्गत अब तक बालाघाट जिले के 10 और बच्चों को शासन द्वारा सहायता राशि स्वीकृत कर दी गई है। इस प्रकार बालाघाट जिले के 18 अनाथ बच्चों को सहायता राशि स्वीकृत की जा चुकी है।
             कलेक्टर श्री दीपक आर्य के मार्गदर्शन में कोविड-19 के कारण जिले के अनाथ हुए बच्चों को मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना का लाभ दिलाने के लिए तत्परता से प्रयास किया जा रहा है। जिले में अब तक ऐसे 18 बच्चों को प्रदेश शासन द्वारा सहायता राशि स्वीकृत कर दी गई है।
               महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती लीना चौधरी ने बताया कि मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना के अंतर्गत महिला एवं बाल विकास परियोजना कटंगी के अंतर्गत आयुष किरनापुरे, खुशी किरनापुरे व मोहित राउत, बालाघाट शहरी परियोजना के अंतर्गत मुस्कान पीपरा, परसवाड़ा परियोजना के अंतर्गत मयंक चौहान, पियूष चौहान, खैरलांजी परियोजना के अंतर्गत निशा डोंगरे व समीर डोंगरे, किरनापुर परियोजना के अंतर्गत डिलिराम लिल्हारे एवं वारासिवनी परियोजना के अंतर्गत पूर्वांशी ठाकरे को शासन द्वारा सहायता राशि स्वीकृत कर दी गई है और उनके बैंक खाते में 05-05 हजार रुपये की राशि जमा कराई जा रही है।
             इसके पूर्व में महिला एवं बाल विकास परियोजना वारासिवनी के अंतर्गत ग्राम मेंहदीवाड़ा की बालिका अर्श अंजुम खैरो, ग्राम सोनझरा की बालिका प्रियंका कावरे, रेणुका कावरे, बालक कार्तिक कावरे, कंचनपुर-सरंडी की बालिका डाली बिसेन एवं ग्राम लड़सड़ा की बालिका काजल ठकरेले, सोनम ठकरले व बालक संजीत कुमार ठकरेले को शासन द्वारा सहायता राशि स्वीकृत कर दी गई है।
               मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना के अंतर्गत पात्र बच्चों को पाँच हजार रुपये प्रतिमाह आर्थिक सहायता राशि दी जाएगी। इसके अलावा उन्हें राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत नि:शुल्क खाद्यान्न प्रदान किया जायेगा और नि:शुल्क शिक्षा की व्यवस्था की जायेगी।