मुझे प्रसन्नता हुई कि सिंधी समाज द्वारा मंदसौर में सिन्धु महल का लोकार्पण हो रहा है- ओम बिरला

6:57 pm or October 21, 2021
मुझे प्रसन्नता हुई कि सिंधी समाज द्वारा मंदसौर में सिन्धु महल का लोकार्पण हो रहा है- ओम बिरला
महावीर अग्रवाल 
मन्दसौर 21 अक्टूबर ; अभी तक ;  ऐसे बिरले ही अवसर होते है जब किसी कार्य की सर्वत्र प्रशंसा हो रही हो, किन्तु भगवान श्री पशुपतिनाथ की पवित्र धार्मिक नगरी में मंदिर के समीप सिन्धी समाज की प्रमुख संस्था पूज्य सिन्धी भाई बन्ध पंचायत कल्याण एवं शैक्षणिक समिति द्वारा मंदसौर की माटी में जन्मे पले व बड़े होकर आज दुबई (यू.ए.ई.) में वेस्ट झोन सुपर मार्केट के विशेष योगदान से सर्व सुविधाओं से सुसज्जित श्री झूलेलाल सिन्धु महल व झूलेलाल धाम मंदिर की नगर को सौगात-समाज के लिये संकल्प सिद्ध हो रही है। यह जानकारी समिति के सचिव पुरुषोत्तम शिवानी ने देते हुए बताया कि 19 अक्टूबर को ममतामयी मॉ श्रीमती राधादेवी धर्मपत्नी स्व. सेठ खूबचन्द भावनानी के द्वारा महल व मंदिर के उद्घाटन व लोकार्पण के बाद सिन्धी समाज के साधु, सन्त, महात्मा व महन्तों ने स्वयं आकर श्री झूलेलाल सिन्धु महल व परिसर में ही स्थापित श्री झूलेलाल धाम में भगवान श्री झूलेलाल की मूर्ति की प्रशंसा कर कहा कि निश्चित रूप से भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव की नगरी में किसी पुण्य आत्मा की तपस्या हो रही होगी जो श्री नरेश भावनानी के रूप में आपको दानदाता मिला जो यह अनुपम भेंट आज देश विदेश में प्रशंसा बटोर रही है।
             शिवानी ने बताया कि लोकसभा के अध्यक्ष श्रीओम बिड़ला का बधाई संदेश प्राप्त हुआ है ।आपको उद्घाटन के लिये आमंत्रित किया गया था किन्तु व्यस्तता के कारण आने में असमर्थता प्रकट करते हुए आपश्री ने संदेश भेजा है।‘‘मुझे यह जानकर अति प्रसन्नता हुई है कि सिन्धी समाज द्वारा मंदसौर, मध्य प्रदेश में श्री झूलेलाल सिंधू महल का निर्माण किया गया है और इसका लोकार्पण समारोह 20 अक्तूबर, 2021 को आयोजित किया जा रहा है। इस शुभ अवसर पर मैं समस्त सिन्धी समाज को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ देता हूँ और लोकार्पण के सफल आयोजन की कामना करता हूँ। जय झूलेलाल!‘‘
              प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान का भी आमंत्रित किया गया था किन्तु प्रदेश के उपचुनाव में व्यस्तता के कारण विधायक श्री यशपालसिंह सिसौदिया के माध्यम से फोन पर संदेश दिया कि चुनाव में व्यस्तता के कारण चाहकर भी मैं श्री झूलेलाल सिन्धू महल के कार्यक्रम में नहीं आ पा रहा हॅॅू शिघ्र ही आप के बीच आउंगा।चुनावी व्यस्तता के कारण मंत्री श्री जगदीश देवड़ा, सांसद श्री सुधीर गुप्ता, सांसद शंकर लालवानी, विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने भी बधाई संदेश भेजे है। सिन्धी समाज ने सभी का आभार प्रकट किया है।
 20 अक्टूबर शरद पूर्णिमा के पावन अवसर पर जबलपुर के विधायक श्री अशोक लोहाणी सपत्नीक पधारे व राजस्थान सरकार के पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद श्री चन्द कृपलानी व इन्दौर के प्रमुख संस्था स्वामी प्रीतमदास सभाग्रह के अध्यक्ष सुन्दरदास माखीजा, उपाध्यक्ष प्रदीप खत्री, सचिव भगवानदास कटारिया, डॉ. एच. वाधवानी, भारतीय सिन्धू सभा के प्रदेश अध्यक्ष गुलाब ठाकुर, व उपाध्यक्ष रवि भाटिया, जय भाई काकानी, आरएसएस सेवा प्रचारक योगेशजी व पूर्व पार्षद श्रीमती कंचन बहन व पूर्व मंत्री नरेन्द्र नाहटा, सकल जैन समाज के संयोजक सुरेन्द्र लोढ़ा, गुरूसिंघ सभा के अध्यक्ष गुरूचरणसिंह बग्गा, घनश्याम बटवाल, ब्रजेश जोशी, शंभुसेन राठौर, प्रहलाद काबरा, सत्यनारायण सोमानी, दशपुर मण्डी व्यापारी संघ अध्यक्ष राजेन्द्र नाहर, दाउ विजयवर्गीय, नरेन्द्र, जितेन्द्र अग्रवाल सहित अनेक समाजप्रमुखों ने शास्त्री अनिल त्रिवेदी, शास्त्री आदित्य शर्मा, पं. रविन्द्र भट्ट, दीपक जोशी ने स्थापित भगवान श्री झूलेलाल की मूर्ति की पूजा अर्चना वैदिक मंत्रो उच्चारण के साथ कर भगवान श्री झूलेलाल की आरती सम्पन्न की।  नगर के सभी प्रमुख संस्था के प्रमुखों ने श्री नरेश भावनानी का आत्मीय सम्मान किया।
               शिवानी ने बताया कि भावनानी परिवार के बड़े भाई भगवानदास भावनानी ने समिति के संयोजक काका दृष्टानन्द नैनवानी, उपाध्यक्ष वासुदेव खैमानी, नन्दू आडवानी, दिलीप भावनानी, कोषाध्यक्ष गिरीश भगतानी, सचिव पुरूषोत्तम शिवानी, संयुक्त सचिव काऊ जजवानी, मनोहर नैनवानी, दयाराम जैसवानी सदस्य अजय शिवानी, ताराचन्द जैसवानी, रमेशचन्द्र लवाणी, ब्रजलाल नैनवानी, वासुदेव सेवानी, डॉ. सुरेश पमनानी के सेवा कार्यों की तारीफ की और ममतामयी मॉ श्रीमती राधाबाई भावनानी के कर कमलों से सभी को शाल श्रीफल भेंटकर सम्मानित करवाया। प्रशंसा पत्र का वाचन श्री ब्रजेश जोशी द्वारा किया गया।
इस पुनीत कार्य के पूर्ण होने पर समिति के संयोजक दृष्टानन्द नैनवानी ने कहा कि मेरे जीवन में एक संकल्प व सपना था कि मंदसौर शहर में हमारे इष्टदेव भगवान श्री झूलेलाल जी का मंदिर हो और एक धर्मशाला हो किन्तु परमात्मा ने मेरे पुत्र समान श्री नरेश के माध्यम से विशाल सौगात के रूप में श्री झूलेलाल महल व श्री झूलेलाल धाम प्रदान किया। मैं ममतामयी मॉ दादी राधाबाई भावनानी व भावनानी परिवार, समिति व सम्पूर्ण सिन्धी समाज की ओर से तहेदिल से आभार व्यक्त करता हूॅ। मैं उन सभी मेहमानों, सन्त महात्माओं, साधुओं, महंतों व हमारे विधायक अशोक रोहाणी, श्री चन्द कृपलानी व नगर के सभी प्रमुख संस्था के प्रमुखों का आभार व्यक्त करता है।
              सचिव पुरूषोत्तम शिवानी ने कहा कि समिति के सभी पदाधिकारी व सदस्यों के यह भाव है कि हमारे पूर्वजनों की पुण्याई होगी कि हमें इस पुनीत सेवा का अवसर प्राप्त हुआ। इस पुनीत अवसर पर भगवान श्री झूलेलाल के 26वें वंशज गादिपति प.पू. ठकुर साई मनीषलालजी (भरूच) के सानिध्य में भगवान श्री झूलेलाल जी का बहराणा साहेब की ज्योत प्रज्वलित कर दरबार सजाया गया जिसके सभी ने दर्शन किये। अंत में सुख समृद्धि का ‘‘पल्लव’’ पाकर महाप्रसादी का आयोजन किया गया।