मुरैना के गांव में हुई 30 मोरों की मौत 

देवेश शर्मा

मुरैना 21 जून ;अभी तक; जिले की मुरैना तहसील के  दोलसा गांव के खेतों में रविवार को 30 से अधिक राष्ट्रीय पक्षी मोरों की मौत हो गई । दो स्थानों पर मोरों के शव मिले हैं।दो दिन पहिले भी इसी इलाके में करीब एक दर्जन  मोरों के शव मील थे।बताया जाता है कि पिछले दो दिन में यहां 45  मोरों की मौत हो चुकी है। वन विभाग ने कल इन 30 मरे मोरों के शवों को जब्त कर लिया है।  साथ ही यहां से अनाज के कुछ दाने भी मिले हैं।म्रतक मोरों का आज दो

पशु पक्षियों के विशेषज्ञ डॉक्टर पीएम करेंगे। विसरे के साथ ही जब्त दाने भी जांच के लिए भेजे जाएंगे। जिससे मोरों की मौत की पुष्टि हो सके।

वनमण्ड्ड्लाधिकारी अमित निकम  के मुताबिक दौलसा गांव में रविवार को एकाएक मोरों की मौतों का सिलसिला शुरू हो गया। यहां गांव में एक जगह पर ही 22 मोरों की मौत हुई। इसके साथ ही दूसरी जगह पर 8 मोरों के शव मिले।दो दिन  पहले भी करीब एक दर्ज्नन मोरो के  मरने की ग्रामीणों ने वन विभाग को सूचना दी थी। जिस पर वन विभाग की टीम गांव में पहुंची। यहां पेड़ों से गिर रहीं मोरों के शव को जब्त किया गया था।  साथ ही जांच पड़ताल शुरू की गई। उन्होंने बताया कि मोोके पर खुले में डाले गए अनाज के कुछ दाने भी मिले।आशंका है कि दाने खाने के बाद चटक धूप में पानी पीने को  नही मिलनेे से हीट स्ट्रोक से भी मोत हो सकती है, अभी मोरों के शिकार किए जाने से भी इंकार नहीं किया जा सकता। वन विभाग की टीम ने इन अनाज के दानों को भी जांच के लिए भेजा है। उन्होंने बताया कि  इस क्षेत्र में पिछले दो दिन से मोर मर रहीं है। यहां दोलसा के पास ही इलाके में  रविवार को फिर 30 मोरों की मौत हो गई। जिस पर अब वन विभाग सक्रिय होकर मामले की जांच में जुट गया है। इस संबंध में डीएफओ अमित निकम ने बताया कि दोलसा में मोरों की मौत हुई हैं। कारणों का पता लगाने के लिए जांच कर रहे है। 30 मोर रविवार को मरीं है। यहां कुछ अनाज के दाने मिले है। जिन्हें जांच के लिए भेजा जावेेे  जावेेगा।