मुर्गाबाजार की आड़ में चल रहा लाखों का जुआ, अवैध शराब कारोबार चरम पर

मयंक भार्गव

बैतूल  २७ दिसंबर ;अभी तक;  कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर शासन प्रशासन द्वारा संक्रमण को थामने के लिए नाईट कफ्र्यू सहित अन्य पाबंदियां लगाई जा रही है। पाबंदियों के बावजूद आठनेर थाना क्षेत्र के ग्रामीण अंचलों में चल रहे मुर्गा बाजारों में सैकड़ों की भीड़ उमड़ रही है। मुर्गा बाजार की आड़ में चल रही जुए की फड़ों पर लाखों रूपए दाव पर लगाये जा रहे साथ मुर्गा बाजारों में अवैध शराब का कारोबार चरम पर है। इतना ही नहीं सर्वाधिक कोरोना संक्रमण वाले सीमावर्ती महाराष्ट्र के कस्बों से बड़ी संख्या में लोग मुर्गाबाजारों में जुआ खेलने आ रहे है। मुर्गा बाजारों में संचालित जुआ, अवैध शराब सहित अन्य अनैतिक गतिविधियों के खिलाफ आठनेर पुलिस द्वारा कार्यवाही नहीं करने से पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठने लगे है। क्षेत्र में चर्चा जोरों पर है कि आठनेर पुलिस के संरक्षण में मुर्गाबाजार सहित अनैतिक गतिविधियां संचालित हो रही है।

मनोरंजन की परंपरा को बनाया अनैतिक कामों का माध्यम

मुर्गो की लड़ाई जिले के जनजातिय एवं वनवासी समुदाय के मनोरंजन की पुरातन परंपरा है। बैतूल जिले के आदिवासी बाहुल्य इलाकों में दशकों पूर्व से दीपावली त्यौहार के बाद से मुर्गा बाजार लगाकर मनोरंजन के लिए मुर्गो की लड़ाई करवाई जाती रही है। परंतु बीते कुछ वर्षो पूर्व से अवैध गतिविधियों को संचालित करने वालों ने पुरातन मनोरंजक परंपरा मुर्गो की लड़ाई को जुआ, सट्टा, अवैध शराब सहित अन्य अनैतिक गतिविधियां के संचालन का माध्यम बना लिया। आलम यह है कि आठनेर थाना क्षेत्र के आदिवासी बाहुल्य इलाकों में संचालित हो रहे मुर्गाबाजारों में फड़ लगाकर लाखों रूपए का जुआ खिलवाया जा रहा है साथ ही वहां बड़े पैमाने पर अंग्रेजी, देशी और महुए की कच्ची शराब को अवैध व्यवसाय किया जा रहा है।

यहां लग रहे है मुर्गाबाजार

आठनेर थाना क्षेत्र के आधा दर्जन ग्रामों के समीप जंगलों और पहाडिय़ों के बीच निर्जन स्थानों पर सप्ताह में दो दिन मुर्गा बाजार लगाये जा रहे है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आठनेर थाना क्षेत्र रगडग़ांव में मंगलवार, शनिवार को गेहूंबारसा में गुरूवार- सोमवार को खैरी में रविवार- बुधवार को, मेंढा में मंगलवार, शनिवार को वडाली में गुरूवार- सोमवार को तथा पचमऊ ग्राम में मंगलवार- शनिवार को मुर्गाबाजार लग रहे है। बताया जाता है कि क्षेत्र के दबंग माने जाने वाले अनैतिक गतिविधियों के कारोबारियों द्वारा मुर्गाबाजार लगवाकर मुर्गो की लड़ाई पर दांव लगवाने के साथ जुए की फड़ संचालन एवं अवैध शराब के विक्रय का अनैतिक कारोबार किया जाता है। सूत्रों की मानें तो मुर्गा बाजार में एक दिन में एक लाख रूपए से अधिक राशि के दांव जुए पर लगाये जाते है साथ ही लगभग 25 हजार रूपए अंग्रेजी देशी शराब सहित महुए की कच्ची शराब का अवैध विक्रय होता है।

महाराष्ट्र से भी आते है जुए खेलने के शौकीन

मुर्गा बाजारों में अधिकतर स्थानीय ग्रामीण मुर्गो की लड़ाई करवाई जाती है तथा मुर्गा बाजार संचालकों द्वारा मुर्गो की लड़ाई पर दांव लगवाने जुए की फड़ संचालित करवाने के साथ ही अवैध शराब बिकवाई जाती है। मुर्गाबाजारों जुआ खेलने एवं शराबखोरी करने के लिए आठनेर, बिसनूर, प्रभातपट्टन, मुलताई, भैंसदेही इलाकों के साथ ही सीमावर्ती महाराष्ट्र राज्य के वरूड़ मोर्शी, पाला, चांदूरबाजार, ब्रम्हड़वाड़ा, घाटलाड़की सहित अन्य कस्बों से बड़ी संख्या में लोग दोपहिया एवं चौपहिया वाहनों से आते है। मुर्गाबाजार में सैकड़ों लोगों के साथ बड़ी संख्या में वाहन भी नजर आते है।

कार्यवाही करवायेंगे- एसपी

आठनेर थाना क्षेत्र में संचालित मुर्गाबाजारों में बड़े पैमाने पर जुआ चलने के मामले में पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने बताया कि जुआ चलाने वालों के बारे में जानकारी एकत्रित कर सख्त कार्यवाही करवाई जायेगी।

दबिश देंगे- टीआई

आठनेर टीआई जयंत मर्सकोले का कहना था कि थाना क्षेत्र में मुर्गाबाजारों में जुआ चलने की जानकारी उन्हें नहीं है। जानकारी पता कर जुएं के अड्डो पर दबिश देकर कार्यवाही की जायेगी।

मयंक भार्गव बैतूल से